बागपत जेल में डॉन मुन्ना बजरंगी का हत्या, जेलर, डिप्टी जेलर समेत पांच सस्पेंड

लखनऊ:  पूर्वांचल के कुख्यात डॉन मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में गोली मारकर हत्या कर दी गई। बजरंगी की हत्या का आरोप बागपत जेल में बंद शूटर सुनील राठी पर लगा है। वकील के मुताबिक बजरंगी को 10 गोलियां मारी गई और रिवॉल्वर को गटर में फेंक दिया गया। इस मामले में एडीजी जेल ने बागपत जेल के जेलर, डिप्टी जेलर, जेल वॉर्डन और दो सुरक्षाकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है। सीएम ने इस पूरे मामले की जांच के आदेश दिये हैं।

मुन्ना बजरंगी की रंगदारी मांगने के मामले में आज बागपत में पेशी होनी थी। पूर्व बीएसपी विधायक लोकेश दीक्षित से रंगदारी मांगने के मामले में उसकी पेशी होनी थी, जिसके लिए उसे रविवार को झांसी से बागपत लाया गया था।

प्रमुख सचिव गृह ने इस मामले के मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिये हैं। मुन्ना बजरंगी का असली नाम प्रेम प्रकाश सिंह है। बजरंगी ने पांचवीं क्लास के बाद पढ़ाई छोड़ दी और अपराध की दुनिया में कदम रख दिया। जिसके बाद उसे जौनपुर का दबंग गजराज सिंह संरक्षण हासिल हो गया। इसी दौरान 1984 में बजरंगी ने लूट के लिए एक व्यापारी की हत्या कर दी।

इसके बाद उसने बीजेपी नेता रामचंद्र सिंह की हत्या कर पूर्वांचल में अपराध की दुनिया में एक जाना माना नाम हो गया। 90 के दशक में वो बाहुबली मुख्तार अंसारी के गैंग में शामिल हो गया। धीरे धीरे बजरंगी मुख्तार अंसारी का खास आदमी बन गया। कृष्णानंद राय हत्याकांड में भी मुन्ना बजरंगी का नाम आया था। बताया जाता है कि मुख्तार के इशारे पर ही कृष्णानंद राय की हत्या की गई थी।

(Visited 7 times, 1 visits today)
loading...