दिव्यांग दिनेश सीएम योगी से करेंगे खादी ग्रामोद्योग मंत्री की शिकायत

लखनऊ:  सफाई कर्मचारी दिनेश कुमार सीएम योगी से मिलकर खादी एवं ग्रामोद्योग मंत्री सत्यदेव पचौरी की शिकायत करेंगे। दिनेश का कहना है कि मंत्री की बातों से मुझे दुख हुआ है। दिनेश ने कहा मैं यहां 1999 से काम कर रहा हूं। लेकिन आजतक मुझे इस तरह से किसी ने नहीं कहा था। सभी अधिकारी मंत्री मेरे काम से खुश रहते थे यही वजह है कि मुझे यहां रखा गया है।

दिनेश ने कहा मैंने मंत्री जी से कहा मैं यहां 1999 से काम कर रहा हूं और मुझे 4000 रुपये मिलते हैं। इसपर मंत्री जी ने कहा ऐसे टेढ़े-मेढ़े लोगों को काम पर रखोगे तो क्या सफाई होगी। दिनेश ने आगे कहा इतने सालों में मैंने किसी को शिकायत का मौका नहीं दिया। इनसे पहले भी तीन-चार मंत्री बदले जा चुके हैं लेकिन किसी ने मेरे काम पर सवाल नहीं उठाए।

इसे भी पढ़ें
ग्रैंड मास्टर शिफूजी ने इस वीडियो में कश्मीर के गद्दारों की हवा निकाल दी

जब दिनेश से ये पूछा गया कि वो क्या चाहते हैं कि मंत्री जी उनसे माफी मांगें? तो इसके जवाब में दिनेश ने कहा मंत्री जी इस तरह से क्यों भड़क गए इस बारे में उन्हें पता नहीं है। बड़े लोग तो कभी भी कुछ भी बोल सकते हैं। उनके बोलने में क्या जाता है। लेकिन मेरे साथ गलत हुआ। इसलिए मैं योगी जी से जरुर मिलूंगा। और अपनी बात उनके सामने रखूंगा।

इस मामले पर सरकार का भी पक्ष आ गया है। सरकार के प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने कहा सत्यदेव पचौरी सरकार के वरिष्ठ मंत्री हैं। उन्होंने भी इस बात का संज्ञान लिया है कि भविष्य में इस तरह के शब्दों का प्रयोग न किया जाए। जिससे किसी की भावना आहत हो।

इसे भी पढ़ें
‘मोदी की साजिश’ वाले लालू के बयान से बीजेपी नेता विनय कटियार सहमत हैं!

दरअसल विवाद तब शुरु हुआ जब सत्यदेव पचौरी ने सार्वजनिक तौर से दिव्यांग सफाई कर्मचारी की कार्यक्षमता पर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था ऐसे ‘लूले लंगड़ों’ को संविदा पर रख रखा है। हलांकि इस मामले में सत्यदेव पचौरी ने अपनी सफाई में कहा है कि उनका मतलब उसकी शारीरिक क्षमता पर सवाल उठाना नहीं था। उनके कहने का मतलब ये था कि जो जिस काम को सही तरीके से कर सकें उन्हें वही काम दिया जाए।

Loading...