दो तरह के नोट छाप रही है सरकार, जेटली ने दिया ये जवाब

दो तरह के नोट छाप रही है सरकार, जेटली ने दिया ये जवाब

नई दिल्ली: राज्य सभा आज दो तरह के नोट छापने का मुद्दा गरमाया रहा। विपक्ष का आरोप था कि सरकार दो तरह के नोट छपवा रही है। कांग्रेसी सांसदों का आरोप था कि ये देश का सबसे बड़ा घोटाला है। जेडीयू सांसद शरद यादव ने भी दो तरह के नोट छापने का आरपो लगाया। विपक्ष के हंगामे की वजह से सदन की कार्यवाही बार बार स्थगित करनी पड़ी।
कांग्रेस पर निशाना साधते हुए वित्त मंत्री सदन के नेता अरुण जेटली ने कहा कि विपक्ष की तरफ रोजाना बिना नोटिस दिये बेकार के मुद्दों को उठाया जा रहा है। जेटली ने कहा इस तरह का कोई प्रावधान नहीं है जिसके तहत कागज लहराकर व्यवस्था का प्रश्न उठाया जाए। जेटली ने कहा विपक्ष के इस रवैये से शून्य काल का दुरुपयोग हो रहा है।

कांग्रेस की तरफ से कपिल सिब्बल ने दो तरह के नोट छापने का मुद्दा उठाया था। जिसमें उन्होंने कहा कि सरकार दो तरह के नोट छाप रही है। एक बीजेपी और उसके सहयोगी दलों के लिए है जबकि दूसरा अन्य लोगों के लिए छापे जा रहे हैं। सिब्बल ने कहा आज पता चला सरकार ने नोटबंदी क्यों की थी।
वहीं गुलाम नबी आजाद ने कहा दो प्रकार के नोट छापे जा रहे हैं। इस सरकार को पांच मिनट भी सत्ता में बने रहने का हक नहीं है। विपक्ष के इस हंगमे पर उप सभापति ने कहा अगर दो तरह के नोट छापे भी जा रहे हैं तो इस मुद्दे को व्यवस्था के प्रश्न के तहत नहीं उठाया जा सकता। कांग्रेस के आरोपों के समर्थन में टीएमसी और जेडीयू भी थी। शरद यादव ने इस मुद्दे पर सरकार से जवाब मांगा। जिसपर उप सभापति ने कहा वो कोई विशेषज्ञ नहीं हैं जो इस सवाल का जवाब देंगे।

Loading...

Leave a Reply