mayawati fear to loss of Swami Prasad Maurya

BSP के खाते में 104 करोड़ पर बोलीं मायावती ‘हेराफेरी नहीं ईमानदारी का पैसा है’

BSP के खाते में 104 करोड़ पर बोलीं मायावती ‘हेराफेरी नहीं ईमानदारी का पैसा है’




लखनऊ: नोटबंदी के बाद बीएसपी के खाते में जमा हुए 104 करोड़ रुपये पर मायावती ने बीजेपी पर हमला किया है। मायावती ने कहा कि पार्टी के चंदे की जांच बीजेपी की साजिश है। मायावती ने कहा बीजेपी समेत दूसरी राजनीतिक दलों के चंदे की भी जांच हो। मायावती ने कहा बीएसपी ने कालाधन जमा नहीं किया है। उन्होंने कहा बीजेपी भी बताए उसके खाते में कितने पैसे जमा हुए हैं।
नोटबंदी के फैसले की आलोचना करते हुए मायावती ने कहा अगर मोदी सरकार नोटबंदी के तरह ही और एक दो फैसले ले लेती है तो बीएसपी का काम आसान हो जाएगा। उसके बाद बीएसपी को खर्च भी कम करना पड़ेगा। मुझे भी रैलियां कम करनी पड़ेगी और राज्य में बीएसपी की पूर्ण बहुमत की सरकार भी बनेगी। और बीजेपी खुद हार जाएगी। मायावती बोलीं जो लोग पार्टी को चंदा देते हैं वो लोग बड़ा नोट देते हैं। क्योंकि उन्हें इसे लाने ले जाने में सहूलियत होती है।

मायावती ने कहा बीएसपी के खाते में पैसा पूरी ईमानदारी से जमा कराए गए। अगस्त के आखिर से नवंबर तक मैं प्रदेश में रही। दिल्ली नहीं जा सकी। दिल्ली आने के बाद पैसे का हिसाब किताब कर पैसे अकाउंट में जमा करवाने थे। इत्तेफाक से तभी नोटबंदी का फैसला आ गया। हमने कोई हेराफेरी नहीं की। हमारे पास एक एक पैसे का हिसाब है।

प्रवर्तन निदेशालय की जांच को मायावती ने पार्टी की छवि खराब करने की साजिश करार दिया। मायावती ने कुछ चैनल पर भी बीजेपी के लिए काम करने के आरोप लगाए। उन्होंने कहा तथ्यों को तोड़ मरोड़कर पेश किया जा रहा है। बीजेपी समेत दूसरे दलों ने भी बैंक में पैसा जमा करवाया है लेकिन उनकी चर्चा नहीं होती है। ये केंद्र सरकार की दलित विरोधी मानसिकता है।

अपने भाई आनंद कुमार का बचाव करते हुए मायावती ने कहा मेरे भाई आनंद कुमार पिछले कई सालों से अपना कारोबार कर रहे हैं। उनसे मिली जानकारी के मुताबिक उन्होंने भी आयकर नियमों के मुताबिक ही अपने अकाउंट में पैसा जमा करवाए हैं। लेकिन फिर भी सरकार उसे बवंडर का विषय बनाए हुए है। कल से इस खबर को ऐसे पेश किया जा रहा है जैसे यह राशि भ्रष्टाचार से जुड़ी हुई है। मुझे खास सूत्रों से जानकारी मिली है कि बीएसपी में जो भी प्रभावशाली लोग हैं उन्हें शिथिल करने के लिए बीजेपी अपनी सरकारी मशीनरी का इस्तेमाल कर उन्हें परेशान कर सकती है और कुछ को परेशान कर रही है।

Loading...

Leave a Reply