दिल्ली में धुंध के बीच स्कूल पहुंचे बच्चे, 69 ट्रेनें देरी से चल रही हैं

नई दिल्ली:  दिल्ली के हालात में सुधार नजर नहीं आ रहे हैं। यही वजह है कि वहां कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा है। सांस लेने में दम घुट रहा है, सीने में जलन महसूस हो रही है। बाहर से दिल्ली आनेवालों का इंतजार लंबा होता जा रहा है क्योंकि धुंध की वजह से ट्रेनें घंटों देरी से चल रही है। दिल्ली सरकार के ऑड इवन का फॉर्मूला भी एनजीटी के सामने टिक नहीं सका।

इतनी धुंधली और जहरीली दिल्ली की सड़कों पर सोमवार को नन्हें कदमें को चहलकदमी बढ़ गई। क्योंकि दिल्ली में सोमवार से स्कूल खुल गए। दिल्ली में जब सालात गंभीर हो गए थे तो दिल्ली सरकार ने स्कूल को बंद कर दिया। लेकिन सोमवार से बच्चे अपनी पुरानी रूटीन पर वापस आ गए। धुंध को चीरते हुए बच्चे स्कूल की तरफ चल दिये।

किसी ने चेहरे पर मास्क लगा रखा था तो किसी ने रूमाल से नाक दबा रखा था। क्योंकि दिल्ली की आबो हवा स्वास्थ के अनुकूल नहीं है। बच्चों को टीचर का मानना है कि स्कूल बंद करना कोई सॉल्यशन नहीं है। प्रदूषण पर नियंत्रण पाने के लिए सामूहिक तौर पर प्रयास किये जाने की जरुरत है। जबतक ऐसा नहीं किया जाता है तबतक हालात कुछ दिन के लिए सामान्य तो हो सकते हैं लेकिन हमेशा के लिए इसका समाधान नहीं हो सकता है।

दिल्ली के हालात को देखते हुए कल कारखाने, निर्माण कार्य, बाहरी ट्रकों की एंट्री पर रोक लगा दी गई। दिल्ली के पेड़ों की धुलाई हो रही है। लेकिन हवा का जहर खत्म नहीं हो रहा है। तापमान में गिरावट के साथ ही आसमान में धुंध जमावड़े की वजह से हवा जहरीली बनी हुई है। हालात को देखते हुए गुरुग्राम में स्कूल को बंद रखा गया है। गाजियाबाद में स्कूल सुबह 9 बजे से शुरु होंगे।

विजिबिलिटी कम होने की वजह से कई ट्रेनें भी घंटों की देरी से चल रही है। सोमवार को धुंध की वजह से तकरीबन 69 ट्रेनों की टाइम टेबल  पर असर पड़ा है। 22 ट्रेनों के समय में बदलाव किये गए हैं। जबकि 8 ट्रेनों को रद्द करना पड़ा।

Loading...

Leave a Reply