1984 सिख विरोधी दंगा में सज्जन कुमार को उम्रकैद की सजा

नई दिल्ली:  1984 के सिख विरोध दंगा में कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को कोर्ट ने दोषी करार दिया है। दिल्ली हाईकोर्ट ने सज्जन कुमार को उम्र कैद की सजा सुनाई है। सज्जन कुमार को अब 31 दिसंबर तक सरेंडर करना होगा। सज्जन तीन बार सांसद रह चुके हैं। पहली बार वो 1980 में सांसद बने। सज्जन कुमार के साथ साथ तीन और लोगों को भी उम्र कैद की सजा सुनाई गई है।

सज्जन कुमार को उम्र कैद होने के बाद बीजेपी ने भी कांग्रेस को घेरा है। अरुण जेटली ने कहा दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले ने जिला अदालत के फैसले को पलट दिया है। सज्जन कुमार को सजा मिलने की एनडीए स्वागत करती है। सज्जन कुमार सिख विरोध दंगे के प्रतीक हैं। 1984 में मासूम और बच्चों को घर से निकाल कर उनकी हत्या कर दी गई। इस मामले में दोषियों को सजा दिलाने के बदले कांग्रेस ने दोषियों को बचाने का काम किया।

समाज के ऊपर कांग्रेस ने अन्याय किया। कमेटी अगर किसी कांग्रेस नेता पर सवाल उठाती थी तो कांग्रेस उस कमेटी सदस्य को बदल देती थी। मोदी जी की सरकार ने एक एसआईटी का गठन किया। जिसके बाद अब दंगे के दोषियों को सजा मिल रही है। उन्होंने कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि इस मामले में और भी लोगों के खिलाफ जल्द फैसले आएंगे। ताकि पीड़ितों को न्याय मिल सके।

जेटली ने कहा कि सिख दंगा का जो पाप है उसका दाग कांग्रेस के ऊपर से कभी नहीं हटेगा। जेटली ने मध्यप्रदेश में सीएम की शपथ लेने वाले कमलनाथ पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सिख समुदाय का आरोप है कि जिस कमलनाथ पर सिख दंगे दाग हैं उन्हें कांग्रेस पार्टी सीएम बनाने जा रही है। कमलनाथ आज ही सीएम पद की शपथ लेने वाले हैं।

(Visited 14 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *