दिल्ली एनसीआर में पटाखे तो कम जले लेकिन प्रदूषण कई गुना बढ़ गया

दिल्ली एनसीआर में पटाखे तो कम जले लेकिन प्रदूषण कई गुना बढ़ गया

नई दिल्ली:  दिल्ली एनसीआर में दिवाली पर प्रदूषण ना हो इसके लिए सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों की बिक्री पर रोक लगा दी थी। जिसकी वजह से बाजार में पटाखे नहीं बिके। लेकिन इसका एक दूसरा पहलू भी है कि रोक के बावजूद दिल्ली एनसीआर में पटाखे बिके और उन्हों जलाया भी गया। हां इतना जरूर है कि और सालों के मुकाबले पटाखे कम जले। लेकिन इससे प्रदूषण के स्तर में कोई फर्क नहीं आया। क्योंकि दिवाली की अगली सुबह दिल्ली के तमाम इलाकों में प्रदूषण का स्तर सामान्य से कई गुना ज्यादा था। कई इलाकों में तो प्रदूषण का स्तर सामान्य से 24 गुना ज्यादा बढ़ गया।

दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण कमेटी यानि डीपीसीसी की तरफ दिल्ली में सुबह 6 बजे के आंकड़े दिये गए। जिसमें ये साफ हो गया कि आतिषबाजी की वजह से दिल्ली की हवा बुरी तरह से प्रदूषित हुई है। सुबह 6 बजे पीएम 2.5 और पीएम 10 का स्तर सामान्य से काफी ज्यादा रिकॉर्ड किया गया।

इंडिया गेट जैसे जगह पर पीएम 2.5 का स्तर सामान्य से 15 गुना ज्यादा था। इंडिया गेट पर पीएम 2.5 का स्तर 911 माइक्रोन था। जबकि इसका सामान्य स्तर 60 माइक्रोन है। आरके पुरम जैसे इलाकों में पीएम 2.5 का स्तर 776 माइक्रोन था। ये सामान्य से तकरीबन 13 गुना ज्यादा है। अशोक विहार में पीएम 2.5 का स्तर 820 माइक्रोन था, जो सामान्य से 14 गुना ज्यादा है। आनंद विहार में पीएम 2.5 का स्तार 617 माइक्रोन रहा जो सामान्य से 10 गुना ज्यादा है।

अगर पीएम 10 की बात करें तो आनंद विहार में इसकी मात्रा सामान्य से 24 गुना ज्यादा रही। पीएम दस का सामान्य स्तर 100 माइक्रोन है। लेकिन आनंद विहार में इसकी मात्रा 2402 माइक्रोन तक पहुंच गई। आरके पुरम में पीएम 10 की मात्रा 1083 माइक्रोन पहुंच गई। जो सामान्य से 11 गुना ज्यादा है। एक बार फिर बता देता हूं कि ये सभी आंकड़े दिवाली की अगली सुबह यानि शुक्रवार सुबह 6 बजे के हैं।

Loading...

Leave a Reply