झारखंड के पूर्व सीएम मधु कोड़ा की सजा पर दिल्ली हाईकोर्ट ने लगाई रोक

नई दिल्ली:  कोयला घोटाले में सीबीआई अदालत से तीन साल की सजा पा चुके झारखंड के पूर्व सीएम मधु कोड़ा की सजा पर दिल्ली हाईकोर्ट ने रोक लगा दी है। सीबीआई अदालत ने मधु कोड़ा समेत तीन दोषियों को तीन-तीन साल कैद की सजा सुनाई थी। सीबीआई अदालत ने मधु कोड़ा पर 25 लाख का जुर्माना भी लगाया था। सीबीआई अदालत ने 16 दिसंबर को इन्हें सजा सुनाया था।

10 साल पुराने इस कोयला घोटाले में झारखंड के पूर्व सीएम मधु कोड़ा, पूर्व कोयला सचिव एचसी गुप्ता, झारखंड के पूर्व मुख्य सचिव अशोक कुमार बसु और कोड़ा के करीबी विजय जोशी शामिल थे। कोर्ट ने प्राइवेट कंपनी विनी आयरन एंड स्टील उद्योग पर भी 50 लाख का जुर्माना लगाया था।

ये मामला झारखंड में राजहरा नॉर्थ कोयला ब्लॉक को कोलकाता की बिनी आयरन एंड स्टील उद्योग लिमिटेड को आवंटित करने में बरती गई अनियमितता से जुड़ा है। इस मामले की जिरह के दौरान सीबीआई ने कहा था कि कंपनी ने 8 जनवरी 2007 को राजहरा नॉर्थ कोयला ब्लॉक आवंटन के लिए आवेदन दिया था। सीबीआई ने आरोप लगाया कि झारखंड सरकार और इस्पात मंत्रालय ने वीआईएसयूएल को कोयला खंड आवंटन करने की अनुशंसा नहीं की बल्कि 36वीं स्क्रीनिंग कमेटी को खंड आवंटित करने की सिफारिश की थी।

सीबीआई ने कहा कि स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष गुप्ता ने कोयला मंत्रालय का प्रभार भी देख रहे तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से कथित तौर पर इन तथ्यों को छुपाया कि झारखंड सरकार ने वीआईएसयूएल को कोयला ब्लॉक आवंटन करने की सिफारिश नहीं की थी। एजेंसी ने कहा कि कोड़ा, बसु और दो आरोपी लोकसेवकों ने वीआईएसयूएल को कोयला ब्लॉक आवंटित करने के पक्ष में साजिश रची थी।

Loading...