दिल्ली पहुंचे देश के किसान, पार्लियामेंट स्ट्रीट पर विरोध का ‘लाल सलाम’

नई दिल्ली:  अपनी मांगों को लेकर देश के कई राज्यो के किसान आज दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे हैं। किसानों की मांग है कि महंगाई, कर्जमाफी, न्यूनतम भत्ता पर सरकार अपनी नीति  बदले, किसानों का नारा है कि नीति बदलो नहीं तो हम सरकार बदल देंगे। किसानों के इस प्रदर्शन की अगुवाई ऑल इंडिया किसान महासभा की तरफ से किया जा रहा है। इस प्रदर्शन में बाढ़ प्रभावित केरल के किसान भी शामिल हैं। कई वामपंथी नेता भी किसानों का समर्थन करने उनके बीच पहुंचे हैं।

वामपंथी संगठन अखिल भारतीय किसान महासभा और सीटू के नेतृत्व में बड़ी संख्या में किसान दिल्ली के रामलीला मैदान में जुटे और वहां से उन्होंने संसद मर्ग की तरफ मार्च शुरु किया। इस विरोध मार्च में शामिल किसानों ने कहा कि चुनाव तो आते जाते हैं, लेकिन सरकार की नीतियां गलत हैं। सरकारों को किसान, मजदूर और गरीबों के हित के लिए अपनी नीतियां बदलनी चाहिए।

किसानों ने धमकी दी कि अगर इस प्रदर्शन के बाद भी उनकी मांग नहीं मानी गई तो आनेवाले समय में और भी बड़ा आंदोलन होगा। अगली बार देश के हर राज्य से किसान दिल्ली आएंगे और घेराव करेंगे। रैली में शामिल किसानों ने कहा कि या तो सरकार किसानों को लेकर अपनी नीति बदले या हम सरकार बदल देंगे।


किसानों ने कहा 28, 29 और 30 नवंबर को देश के 201 किसान संगठन अलग अलग राज्य से दिल्ली की तरफ कूच करेंगे।

इस महारैली से पहले सीटू और अखिल भारतीय किसान सभा की तरफ से एक चार्टर पेश किया गया। जिसमें मांग की गई है कि कीमतों में हो रही बढ़ोतरी पर रोक लगाई जाए, खाद्य वितरण प्रणाली को सही किया जाए, किसान-मजदूरों को रोजगार के अवसर मिले, सभी मजदूरों के लिए न्यूनतम मजदूरी भत्ता 18000 रुपये प्रतिमाह किया जाए। किसानों के लिए स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू हों। गरीब, खेती मजदूर और किसानों का कर्ज माफ हो।

(Visited 83 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *