अरविंद केजरीवाल ने धरना खत्म किया, 9 दिन से एलजी निवास में धरने पर थे

नई दिल्ली:  दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने अपना धरना खत्म कर दिया है। केजरीवाल पिछले 9 दिनों से धरने पर थे। सोमवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने भी केजरीवाल को फटकार लगाते हुए कहा था कि आप किसी के घर या दफ्तर में घुसकर धरना नहीं दे सकते। कोर्ट ने ये भी कहा था कि मुझे ये समझ नहीं आ रहा है कि ये धरना है या भूख हड़ताल।

केजरीवाल के साथ साथ उनके तीन मंत्री भी धरने पर थे। जिनमें डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया, स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन और गोपाल राय शामिल थे। दो दिन पहले सतेंद्र जैन की हालत बिगड़ गई थी जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। सोमवार को डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया की भी तबीयत बिगड़ गई। जिसके बाद उन्हें भी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

केजरीवाल का आरोप था कि आईएएस एसोसिएशन अपना हड़ताल खत्म कर काम पर लौटें। केजरीवाल ने आरोप लगाया था कि एलजी के इशारे पर आईएएस अधिकारी हड़ताल पर हैं और काम पर नहीं लौट रहे हैं। जबकि इसके उलट आईएएस एसोसिएशन ने साफ किया था कि वो कभी हड़ताल पर थे ही नहीं वो अपना काम कर रहे हैं।

दिल्ली सरकार और आईएएस अधिकारियों के बीच गतिरोध खत्म करने के लिए आज दिल्ली सचिवालय में बैठक भी बुलाई गई थी। जिसमें अपील की गई थी कि अधिकारी उसमें आएं। डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा कि उस बैठक में आईएएस अधिकारी शामिल हुए थे। शायद उस बैठक का ही नतीजा है कि दोनों तरफ से जारी गतिरोध दूर हुई और सीएम अरविंद केजरीवाल ने अपना धरना खत्म किया।

Loading...