दिल्ली में भूख से तीन बच्चियों की मौत, मां की हालत गंभीर, पिता लापता

नई दिल्ली:  दिल्ली में इसबार ऐसी घटना हुई है जिसे जाकर किसी का भी सिर शर्म से झुक जाएगा। लेकिन सियासतदान इस बेहद ही संवेदनशील मामले पर भी सियासत करने में व्यस्त हैं। दिल्ली के मंडावली इलाके में तीन बच्चियों की मौत भूख से तड़पकर हो गई। इनमें 8 साल की शिखा, 4 साल की मानसी और 2 साल की पारूल शामिल हैं। इन तीनों बच्चियों की मौत इसलिए हो गई क्योंकि इन्हें कई दिनों तक अनाज का एक दाना तक नहीं मिला। इनकी मां की हालत भी बेहद ही नाजुक है।

इन तीनों बच्चियों का जब पोस्टमार्टम किया गया तो डॉक्टर भी हैरान रह गए। क्योंकि इन बच्चियों के पेट में अनाज का एक दाना तक नहीं था। इनका चेहता बिल्कुल सूख चुका था। इनके शरीर पर वसा का नामोनिशान नहीं था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक इन बच्चियों की मौत की वजह भूख है।

तीन-तीन बच्चियों की मौत की खबर जैसे के सामने आई इसपर सियासत भी सक्रिय हो गई। नेताओं का उनके घर आना जाना शुरु हो गया। बीजेपी कांग्रेस के निशाने पर दिल्ली की केजरीवाल सरकार है। उधर सीएम केजरीवाल ये मानने को तैयार नहीं हैं कि बच्चियों की मौत भूख से हुई है। इसलिए उनका दो अलग अलग अस्पतालों में पोस्टमार्टम कराया गया।

संसद में भी भूख से हुई इस मौत का मामला उठा। विपक्ष का कहना है कि आम आदमी के हक की बात करनेवाले केजरीवाल एक रिक्शा चलानेवाले की तीन बेटियों का पेट नहीं भर पाए। किसी भी सरकार के लिए ये शर्म की बात है। दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने बच्चियों की मां से एसडीएम दफ्तर में मुलाकात की। सिसोदिया ने कहा गरीबी और भूखमरी से बच्चियों की मौत हुई हो ये हम सब के लिए सदमे की बात है।

सिसोदिया ने कहा बच्चियों की मां की हालत ठीक नहीं है। उन्हें तत्काल 25 हजार रुपये नगद की मदद दी जा रही है। साथ ही उनकी मां को अस्पताल में भर्ती कराया जा रहा है। उनका इलाज दिल्ली सरकार की तरफ से कराया जाएगा। उसके पति का पुलिस पता लगाएगी।

Loading...