‘बेटी के सम्मान में BJP मैदान में’ गाली विवाद में BJP vs BSP

लखनऊ:यूपी BJP के पूर्व उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह ने Mayawati के खिलाफ बदजुबानी की तो पूरी BJP बचाव की मुद्रा में आ गई। BSP सुप्रीमो Mayawati ने अपने खिलाफ हुई बदजुबानी को पूरे दलित समाज से जोड़ दिया। नतीजा ये हुआ कि BSP कार्यकर्ता सड़कों पर आ गए, दयाशंकर का पूरा परिवार सहम कर एक कमरे में बंद हो गया और BJP खामोश होकर सबकुछ देखने में ही अपनी भलाई मान कर बैठ गई।

BJP इतनी बेबस इसलिए थी क्योंकि दयाशंकर के बयान ने पहले ही पार्टी का काफी नुकसान कर दिया। लेकिन Mayawati ने BJP नेता की तरफ से हुई इस बदजुबानी से अपनी सियासत की भूमि को सिंचित करने में कामयाब रही।

BSP कार्यकर्ता दयाशंकर की गिरफ्तारी की मांग लेकर सड़कों पर निकल गए। लेकिन भाषा में मामले में BSP कार्यकर्ता भी दीन हीन ही निकले। क्योंकि उन्हेंने भी उसी तरह की भाषा का इस्तेमाल किया जिसके लिए दयाशंकर की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे Mayawati के ये समर्थक।

Mayawati के समर्थक केवल दयाशंकर तक ही नहीं रुके। दयाशंकर की पत्नी का आरोप है कि उनके और उनकी नाबालिग बेटी के बारे में भी काफी अपशब्द कहे गए। इन सब चीजों को देखकर उनकी बेटी बीमार हो गई। उनकी जान को खतरा पैदा है गया। जिसके बाद Mayawati और दो BSP नेताओं राम अचल राजभर और नसिमुद्दीन सिद्दिकी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई गई। गुरुवार को दिनभर और शुक्रवार को सुबह से शाम तक BSP की तरफ से ये सबकुछ चलता रहा। लेकिन BJP खामोश होकर देखती रही। उन्हीं के एक पूर्व नेता का परिवार इंसाफ की गुहार लगा रहा था लेकिन उस परिवार के साथ कोई खड़ा नहीं था।

शुक्रवार शाम को BJP की तंद्रा टूटी। जिसके बाद ऐलान किया गया कि शनिवार को पूरे यूपी में BJP प्रदर्शन करेगी BSP के खिलाफ। BJP ने इस विरोध को ‘बेटी के सम्मान में BJP मैदान में’ नाम दिया । अब BJP BSP के खिलाफ प्रदर्शन कर रही है। लेकिन ऐसा करने का फैसला लेने में BJP को पूरे 48 घंटे लग गए। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि BJP को दयाशंकर के बयान से कितना गहरा सदमा लगा था।

48 घंटे तक खामोश रहने के बाद यूपी में BJP इस काबिल हो सकी की वो BSP नेता नसीमुद्दीन सुद्दिकी के खिलाफ केस करने की मांग कर सके। उधर दयाशंकर की पत्नी स्वाति का आरोप है कि सियासी लड़ाई में परिवार को घसीटना कहां तक जायज है। यूपी के सीएम अखिलाश यादव ने दयाशंकर की पत्नी स्वाति सिंह और उनके बच्चों को पूरी सुरक्षा देने का भरोसा दिया है। तो अपना दल की सासंद अनुप्रिया पटेल ने कहा है कि Mayawati इस मुद्दे को ज्यादा तूल दे रही हैं। उन्होंने ये भी कहा कि गाली के बदले गाली देना सही नहीं है।

Loading...

Leave a Reply