सलमान ने चिंकारा को नहीं मारा, राजस्थान हाईकोर्ट से बरी

राजस्थान: चिंकारा शिकार को दो मामले में सलमान खान बरी हो गए हैं। राजस्थान हाईकोर्ट ने उन्हें बरी कर दिया। इससे पहले सेशंस कोर्ट ने उन्हें एक मामले में 5 साल और दूसरे मामले में 1 साल की सजा सुनाई थी। लेकिन हाईकोर्ट ने सेशंस कोर्ट के फैसले को उलटते हुए सलमान के हक में फैसला सुनाया।

इस मामले में कुल 12 लोगों को आरोपी बनाया गया था। जिनमें से 11 आरोपियों को सेशंस कोर्ट ने बरी कर दिया था। केवल सलमान खान को 5 साल की सजा सुनाई गई थी। इसका लाभ सलमान खान को मिला। हाईकोर्ट के फैसले को बिश्नोई समाज सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने का मन बना रहा है।

फैसले के बाद सलमान के वकील ने कहा कि ‘सलमान के खिलाफ दो केस दर्ज थे। घोड़ा फार्म हाउस मामले में सलमान को 5 साल की सजा और भवाद केस में 1 साल की सजा सुनाई गई थी। लेकिन हाईकोर्ट ने राज्य सरकार की अर्जी को खारिज करते हुए उन्हें दोनों मामलों से बरी कर दिया। कोर्ट में जिन लोगों को गवाह बनाया गया था उनमें से कोई कोर्ट में पेश हुआ ही नहीं। इनमें जिप्सी ड्राइवर हरीश दुलानी भी शामिल है। लेकिन वो कभी कोर्ट में पेश हुआ ही नहीं।‘

वहीं बिश्नोई समाज हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाने की तैयारी में है। बिश्नोई समाज के वकील का कहना है कि ‘हम ये जानना चाहते हैं कि चिंकारा मरा कैसे ? हम हाईकोर्ट के फैसले से खुश नहीं हैं। हम न्यायालय के फैसले पर सवाल नहीं उठा रहे लेकिन हम सुप्रीम कोर्ट में इसे चुनौती देंगे।‘

सलमान खान पर चिंकारा शिकार मामले में चार केस दर्ज हुए थे। जिनमें मथानिया और भवाद में तीन चिंकारा के शिकार के दो अलग अलग मामले हैं। वहीं कंकाणी में हिरण शिकार का मामला और आर्म्स एक्ट का मामला है।

तीन चिंकारा शिकार मामले में सलमान खान को 17 फरवरी 2006 को जोधपुर की निचली अदालत से एक साल की सजा हुई थी। सलमान पर भवाद गांव में 26-27 सितंबर 1998 में शिकार करने का आरोप लगा था। सलमान को काले हिरण के शिकार के मामले में 10 अप्रैल 2006 को पांच साल की सजा सुनाई गई। ये मामला मथानिया के पास घोड़ा फार्म में 1998 के 28-29 सितंबर की रात का है। बाद में जोधपुर हाईकोर्ट से उन्हें जमानत मिल गई थी।

तीसरा केस कंकाणी गांव में 1-2 अक्टूबर 1998 की रात दो काले हिरण के शिकार का है। ये केस आर्म केस मे एडिशनल चार्ज फ्रेम होने की वजह से जुलाई 2012 तक पेंडिंग रहा और फिलहाल ये केस सेशन कोर्ट में चल रहा है। फिल्म हाम साथ साथ हैं की शूटिंग के दौरान सितंबर-अक्टूबर 1998 के दौरान सलमान समेत दूसरे अभिनेताओं सैफ अली खान, तब्बू, सोनाली बेंद्रे और नीलम पर शिकार के लिए सलमान को उकसाने का आरोप है।

सलमान चिंकारा शिकार मामले में और घोड़ा फार्म हाउस शिकार मामले में 12 अक्टूबर 1998 से 17 अक्टूबर तक पुलिस और न्यायिक हिरासत में रहे। उन्हें 2006 में 10 से 15 अप्रैल तक 6 दिन जेल में रहना पड़ा। इस पूरे मामले में सबसे अहम गवाह हरीश दुलानी थे। जिनके बारे में कहा गया था कि वो सलमान की जिप्सी चला रहे थे। लेकिन शुरु से लेकर अबतक उसकी कभी पेशी ही नहीं हुई। कभी कहा गया वो मुंबई में हैं, कभी कहा गया वो विदेश में है। लेकिन अबतक ये पता नहीं चला कि दुलानी है कहां हैं।

Loading...