सैफुल्लाह अगर ISIS आतंकी नहीं था तो उसका एनकाउंटर क्यों किया- कांग्रेस




नई दिल्ली: लखनऊ में मारे गए आतंकी सैफुल्लाह के एनकाउंटर पर सियासत तेज हो गई है। कांग्रेस नेता सत्यव्रत चतुर्वेदी ने सवाल उठाते हुए कहा है कि अगर सैफुल्लाह ISIS आतंकी नहीं था तो फिर उसका एनकाउंटर क्यों किया गया? उन्होंने कहा कि बगैर पूरी जांच किये जल्दबाजी में एनकाउंट करने के पीछे क्या मकसद था? इससे पहले कांग्रेस प्रवक्ता पी सी चाको ने भी बुधवार को इस एनकाउंटर पर सवाल उठाए थे।

कांग्रेस नेता सत्यव्रत चतुर्वेदी और असददुद्दीन ओवसी ने मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान के उस बयान पर भी सवाल उठाए हैं जिसमें उन्होंने सैफुल्लाह को ISIS का आतंकी बताया था। उनका कहना था कि शिवराज सिंह ने किस आधार पर सैफुल्लाह को ISIS का आतंकी बताया।

सैफुल्लाह को लखनऊ मे 11 घंटे तक चले एनकाउंटर के बाद मारा गया था। उसके पास से ISIS के पर्चे, तकरीबन 600 राउंड गोली, बम बनाने का सामान, ISIS से जुड़े साहित्य और कई 8 पिस्टल बरामद किये गए थे। उसके एनकाउंटर के बाद यूपी के एडीजी ने कहा था सैफुल्ला ISIS का आतंकी नहीं था। बल्कि वो स्वयंभू संगठन से जुड़ा था। जिसका मकसद ISIS की तर्ज पर अपना संगठन तैयार करना था।

ये भी पढें :

– आतंकी सैफुल्लाह का शव लेने से पिता ने किया इनकार कहा ‘देश बड़ा है बेटा नहीं’

दलजीत चौधरी ने बताया था कि सैफुल्लाह और इस संगठन से जुड़े लोगों ने इंटरनेट के माध्यम से बम बनाने की ट्रेनिंग ली थी। सोशल मीडिया के जरिये एक दूसरे के संपर्क में आए थे और इंटरनेट से ही आत्मघाती हमला करने के तरीके सीख रहे थे। वहीं इससे उलट यूपी एटीएस की तरफ से एनकाउंटर के बीच में ही कहा गया था सैफुल्लाह ISIS का आतंकी है।

इस दो तरह के बयान सामने आने की वजह से सियासी दलों को इसपर राजनीति करने का मौका मिल गया। वहीं सूत्रों के मुताबकि गृह मंत्रालय ने यूपी पुलिस के बयान पर नाराजगी जताई है। इस एनकाउंटर पर हो रही सियासत के बाद बीजेपी नेता रीता बहुगुणा जोशी ने कहा अगर लखनऊ में हुए ट्रेन ब्लास्ट के बाद आतंकियों के एक दूसरे से तार जुड़ रहे थे और उनके रैकेट का पता लगाया गया तो क्या उन्हें गिरफ्तार करने और उनका एनकाउंटर करने के लिए चुनाव खत्म होने का इंतजार किया जाता।

Loading...

Leave a Reply