नाथनगर से निकलकर औरंगाबाद, समस्तीपुर होते हुए मुंगेर पहुंच गया दंगा

पटना:  बिहार में भागलपुर के बगल में नाथनगर से सांप्रदायिक उन्माद ने जो रंग दिखाया उसका असर राज्य के दूसरे जिलों में भी दिखने लगा है। अबतक ये दंगा औरंगाबाद, मुंगेर को झुलसा चुका है। अब समस्तीपुर के रोसड़ा पहुंचा है। जहां दंगा और हिंसा की वजह से स्कूल कॉलेज बंद कर दिये गए हैं। राज्य सरकार की पुलिस जनता से अफवाहों पर ध्यान ना देने, शांति बनाए रखने और अनावश्यक घर बाहर ना निकलने की अपील कर रहा है। लेकिन दूसरी तरफ उपद्रवी शहर में आग लगा रहे हैं।

समस्तीपुर में रोसड़ा के गुदरी बाजार में मंगलवार को दुर्गा विसर्जन के दौरान दो समुदाय आमने सामने आ गए। दोनों गुटों में हुई झड़प में एसएसपी संतोष कुमार भी घायल हो गए। आगजनी और पत्थरबाजी की वजह से शहर तकरीबन 6 घंटे तक बंधक बना रहा। सड़क और रेल सेवा पूरी तरह से बाधित रही। मुंगेर में भी दो गुटों में झड़प के बाद धारा 144 लगा दी गई है।

हालात बिगड़ता देख जिलाधिकारी प्रणव कुमार और एसपी दीपक रंजन घटनास्थल पर पहुंचे। मामला शांत करने में दोनों अधिकारियों को काफी मशक्कत करनी पड़ी।

राज्य में एक के बाद एक जिले में बिगड़ रहे हालात के बाद विपक्ष में बैठी आरजेडी और कांग्रेस ने नीतीश सरकार पर सवाल उठाए हैं। बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा सदन में गृह विभाग की मांग पर सरकार का उत्तर चल रहा था। मुझे सूचना मिली की औरंगाबाद में लगातार दूसरे दिन उपद्रवी आगजनी कर 50 दुकानें जला चुके हैं। गोलीबारी हुई है, कर्फ्यू लगा दिया गया है।इसी बीच सीएम नीतीश कुमार खड़े होकर झुंझलाहट में मेरी पुख्ता सूचना को ही अफवाह बताने लगे।

Loading...