gayatri prajapati famely

सीएम योगी के दरबार से बैरंग लौटा पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति का परिवार

सीएम योगी के दरबार से बैरंग लौटा पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति का परिवार

लखनऊ:  अखिलेश सरकार में कद्दावर मंत्री रहे गायत्री प्रजापति का परिवार लखनऊ में सीएम योगी आदित्यनाथ से मिलने गए थे। परिवार गायत्री प्रजापति के लिए इंसाफ की मांग करने गया था। लेकिन सीएम योगी से उनकी मुलाकात नहीं हुई। पिछले दिनों इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने गैंगरेप के आरोपी गायत्री प्रजापति की जमानत अर्जी खारिज कर दी थी।

गायत्री प्रजापति की बेटी ने कहा कि हमारे पास अपने पिता की बेगुनाही के सबूत हैं। लड़की ने कहा था कि वो प्रजापति को नहीं जानती हैं और उसने एफआईआर दर्ज नहीं करवाई थी। अपनी इसी मांग को लेकर गायत्री प्रजापति की बेटी और पत्नी सीएम योगी आदित्यनाथ के जनता दरबार में फरियादी बनकर गए थे।

इसे भी पढ़ें

दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी के घर जानलेवा हमला, देखें वीडियो

गायत्री प्रजापति पर नाबालिग के साथ गैंगरेप का आरोप है। उसी आरोप में उन्हें पॉस्को एक्ट के तहत गिरफ्तार किया गया है। उनपर आरोप लगने के बाद काफी दिनों तक वो फरार रहे। पुलिस ने उनकी तलाश में कई जगह पर छापेमारी की। लेकिन गायत्री प्रजापति का पता नहीं चला। जिस वक्त गायत्री फरार चल रहे थे उस वक्त यूपी में समाजवादी पार्टी की सरकार थी और उस सरकार में गायत्री मंत्री थे।

11 मार्च को जब यूपी चुनाव के नतीजे आए और यूपी में समाजवादी सरकार की बुरी तरह से पराजय हुई उसके बाद 15 मार्च को गायत्री प्रजापति को लखनऊ से गिरफ्तार किया गया। लेकिन जबतक यूपी में समाजवादी पार्टी की सरकार रही आरोप लगने के बाद भी ना तो गायत्री को मंत्री के पद से हटाया गया और न ही तब के सीएम अखिलेश यादव ने गायत्री प्रजापति से सरेंडर करने के लिए कहा था।़

इसे भी पढ़ें

यूपी में सपा-कांग्रेस का साथ खत्म-राज बब्बर

गायत्री की फरारी चुनावी मुद्दा भी बनी थी। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा था कि अगर अखिलेश यादव गायत्री प्रजापति को गिरफ्तार नहीं करती है तो 11 मार्च के बाद जब प्रदेश में बीजेपी की सरकार बनेगी तो प्रजापति को पाताल से भी खोज निकालेंगे। हुआ भी वैसा ही। 15 मार्च को प्रजापति को गिरफ्तार कर लिया गया।

Loading...

Leave a Reply