बेटी के लिए इंसाफ मांगने वाले पिता को CM रघुवर दास ने कहा ‘गेट आउट’




रांची/झारखंड: झारखंड के सीएम रघुवर दास के सामने उस बेटी का पिता इंसाफ मांगने पहुंचा था जिसने खुदकुशी कर ली थी। कार्यक्रम में सीएम को देखकर लड़की के पिता संजय सिंह फफक कर रो पड़े। अपनी बेटी की मौत के जिम्मेदार लोगों की गिरफ्तारी की मांग करने लगे।

ये सब देखकर शुरु में सीएम ने उन्हें ढांढस बंधाया। सीएम ने कहा आपको इंसाफ मिलेगा। लेकिन इस तसल्ली से एक पिता की इंसाफ की आस अधूरी रही तो सीएम का पारा चढ़ गया। उन्होंने कहा राजनीति करते हो, गेट आउट, गेट आउट।

ये पूरा वाकया हरमू में आयोजित अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस का है। बीजेपी महिला मोर्चा ने इस मौके पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया था। उसी कार्यक्रम में सीएम रघुवर दास शिरकत करने पहुंचे थे। उस कार्यक्रम में 2 मार्च को इंस्टीट्यूट के हॉस्टल में सुसाइड करनेवाली इच्छिता सिंह के पिता संजय सिंह अपने परिवार के सदस्यों के साथ मौजूद थे।

ikshita-commited-suicideकार्यक्रम में सीएम के आने के बाद संजय सिंह और उनके परिवार के दूसरे सदस्य जोर-जोर से चिल्लाने लगे। संजय सिंह बोले ‘मेरी बेटी की हत्या कर दी गई और आप यहां वुमंस डे मना रहे हैं। मौज कर रहे हैं। पुलिस भी अपराधियों से मिली हुई है।‘ शुरु में तो सीएम ने उन्हें समझाया लेकिन जब बेटी को खो चुके पिता को इससे तसल्ली नहीं हुई तो सीएम का क्रोध फूट पड़ा। और इंसाफ मांग रहे पिता को वहां से निकल जाने का फरमान सुना दिया।

इच्छिता रांची के लालपुर के कोंचिंग इंस्टीट्यूट से मेडिकल की पढ़ाई कर रही थी। लेकिन 2 मार्च को उसने हॉस्टल के पंखे से फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। मेडिकल रिपोर्ट में भी खुदकुशी की पुष्टि हो चुकी है। इच्छिता की एक दोस्त ने बताया कि खुदकुशी से एक घंटे पहले वो एक लड़के से बात कर रही थी। इसी बातचीत में दोनों के बीच कुछ कहासुनी हो गई।

इच्छिता की दोस्त ने पुलिस में जो बयान दिया है उसके मुताबिक 2 मार्च को रात के तकरीबन 8 बजे छात्राएं हॉस्टल के स्टडी रुम में थीं। तब इच्छिता भी वहां थी। लेकिन कुछ देर के बाद वो वहां से चली गई। इसके बाद उसके दोस्त मनीष का फोन मेरे फोन पर आया। मनीष ने बताया उसके और इच्छिता के बीच कुछ विवाद हो गया है। इच्छिता कह रही है मैं फांसी लगा लूंगी। तब मैंने मनीष से कहा कि तुम हर बार उससे लड़ते हो और यही बात कहते हो।

इसके बाद रात 8.30 बजे के बाद सभी छात्राएं खाना खाने के बाद अपने-अपने कमरे में चली गई। मैं भी कमरे की तरफ गई। लेकिन दरवाजा बंद था। काफी खटखटाने के बाद जब कोई आवाज नहीं आई तो मैं खिड़की के पास गई और जब अंदर झांका को इच्छिता फंदे से लटकी दिखी।

इच्छिता के पिता ने इस मामले में चार लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। जिसमें कोचिंग इंस्टीट्यूट के 3 ऑपरेटर्स समेत डाल्टनगंज में रहनेवाले मनीष अग्रवाल के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है।

Loading...

Leave a Reply