CM योगी के मंच से दिगंबर अखाड़े के महंत ने राम मंदिर पर कर दिया ये बड़ा एलान

CM योगी के मंच से दिगंबर अखाड़े के महंत ने राम मंदिर पर कर दिया ये बड़ा एलान

गोरखपुर/उत्तर प्रदेश:  गंभीरनाथ शताब्दी पुण्यतिथी समारोह पर हो रहे खास कार्यक्रम में गोरखपुर में सीएम आदित्यनाथ योगी भी मौजूद थे। उसी मंच पर कई साधु संत भी मौजूद थे। सीएम आदित्यनाथ योगी ने कहा तुलसीदास ने अकबर को कभी राजा नहीं माना था। उन्होंने हमेशा रामचंद्र को ही राजा मान था। तुलसीदास ने कहा था राजा रामचंद्र की जय।

जिस मंच पर सीएम आदित्यनाथ योगी बैठे थे उसी मंच पर अयोध्या के दिगंबर अखाड़े के महंत सुरेश दास भी बैठे थे। महंत सुरेश दास ने उसी मंच से ये एलान किया कि अयोध्या में राम मंदिर ही बनेगा। मस्जिद बनने का कोई सवाल ही नहीं है।

ये भी पढें :

– पीएम मोदी की अपील ‘हफ्ते में एक दिन पेट्रोल-डीजल का इस्तेमाल ना करें’

महंत सुरेश दास ने कहा अयोध्या में राम जन्म भूमि पर मंदिर जरुर बनेगा। वहां मंदिर बनने से कोई रोक नहीं सकता है। हाल में राम मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट की तरफ से दोनों पक्षों को आपसी बातचीत से समाधान निकालने की बात का भी महंत सुरेश दास ने स्वागत किया। उन्होंने कहा सुप्रीम कोर्ट ने जो कुछ कहा उसका मैं स्वागत करता हूं।

ये भी पढें :

– गुंडों को सीएम योगी की चेतावनी ‘सुधर जाओ या यूपी छोड़ दो नहीं तो वहां भेज देंगे…’

उन्होंने आगे कहा सुप्रीम कोर्ट ने दूसरे पक्ष को ये मौका दिया है कि समाधान के लिए सामने आएं। उन्होंने कहा बातचीत के लिए हमारी एक शर्त है कि मंदिर निर्माण की शर्त पर ही बातचीत हो। अयोध्या में मस्जिद का निर्माण नहीं हो सकता है। इसे दूसरे पक्ष में स्वीकार कर लें तो अच्छा है। नहीं तो 2018 कानून बनाकर मंदिर का निर्माण किया जाएगा।

महंत सुरेश दास ने कहा अब यूपी में भी हमारी सरकार है। और केंद्र में भी हमारी सरकार है। 2018 में राज्य सभा में भी हमारा बहुमत होगा। उसके बाद हम मंदिर निर्माण के लिए कानून बनाएंगे और अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण कराएंगे।

ये भी पढें :

-CM योगी पर क्रिकेटर मोहम्मद कैफ के इस ट्वीट ने लोगों का दिल खुश कर दिया

कुछदिनों पहले बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने भी कहा था कि 2018 में जब राज्यसभा में बीजेपी का बहुमत होगा तब राम मंदिर के लिए कानून बनाकर अयोध्या में मंदिर का निर्माण करेंगे। सुब्रमण्यम स्वामी की याचिका पर ही सुप्रीम कोर्ट ने दोनों पक्षों को बातचीत से समाधान निकालने की बात कही थी।

Loading...

Leave a Reply