international-tribunal

इंटरनेशनल ट्रिब्यूनल में दक्षिण चीन सागर पर चीन का दावा खारिज

इंटरनेशनल ट्रिब्यूनल में दक्षिण चीन सागर पर चीन का दावा खारिज

दक्षिण चीन सागर पर अंतरराष्ट्रीय ट्रिब्यूनल के फैसले से चीन बैखला गया है। अंतरराष्ट्रीय ट्रिब्यूनल का फैसला दक्षिण चीन सागर यानि SCS से जुड़ा है। फिलीपींस की याचिका पर फैसला सुनाते हुए ट्रिब्यूनल ने कहा है SCS पर चीन का अधिकार गलत है। साथ ही ये भी कहा है कि ‘चीन के पास कोई कानूनी आधार नहीं है कि वो SCS पर ऐतिहासिक रुप से दावा पेश कर सका। SCS के संसाधनों पर चीन को दावा करने का कोई अधिकार नहीं है।‘

इस फैसले को चीन ने सिरे से खारिज करते हुए कहा है कि वो इस फैसले को नहीं मानता है। साथ ही चीन ने इस पूरे मामले को महज तमाशा करार दिया है। चीनी विदेश मंत्री वांग यू ने कहा कि ‘दक्षिण चीन सागर पर इस फैसले ने मध्यस्थता के मामले में इस विवाद को तनाव और आपसी मुकाबले के खतरनाक क्षेत्र में धकेल दिया है।‘

चीन ने इंटरनेशनल ट्रिब्यिनल का फैसला अस्वीकार करते हुए कहा है कि चीन न तो इसे स्वीकार करेगा और ना ही इसे मानेगा। चीन SCS में अपनी क्षेत्रीय संप्रभुता और समुद्री अधिकारों और हितों की फिर से पुष्टि करता है।‘

चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने इस फैसले को स्वीकार करने से इनकार करते हुए कहा कि ‘चीन दक्षिण चीन सागर में शांति और स्थायित्व बनाए रखने के लिए समर्पित है लेकिन मध्यस्थता से जुड़ी कोई भी स्थिति या फैसला स्वीकार नहीं करेगा।‘

यानि चीन अंतरराष्ट्रीय ट्रिब्यूनल के फैसले को दरकिनार करते हुए SCS पर अपने तरीके से अधिकार जता रहा है। चीन की तरफ से शांति की बात भी की जा रही है लेकिन वो शांति चीन अपनी शर्तं के मुताबिक लागू करना चाहता है।

दरअसल फिलीपीन्स ने SCS पर चीन के दावे और अधिकार के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय ट्रिब्यूनल में अपील की थी। इसी पर फैसला सुनाते हुए अदालत ने SCS पर चीन के दावे को खारिज कर दिया । SCS पर फिलीपीन्स के अलावे मलेशिया, ताइवान और वियतनाम भी दक्षिण चीन सागर पर अपना दावा पेश करता है।
-International Tribunal

Loading...

Leave a Reply