चीन की ये तकनीक सीखने लायक है, ट्रंप आ रहे थे और एक रात में धुंध साफ कर दिया

चीन की ये तकनीक सीखने लायक है, ट्रंप आ रहे थे और एक रात में धुंध साफ कर दिया

नई दिल्ली:  दिल्ली को धुंध की चादर ने बंधक बना लिया है। जमीन से समान देख पाना मुमकिन नहीं है। पिछले मंगलवार से दिल्ली में हालात इंसानी जीवन के लिए बिल्कुल भी अनुकूल नहीं है। बताया जा रहा है अगले 7 दिनों तक ऐसे ही हालात बने रहेंगे। जिस तरह के हालात दिल्ली में बने हैं तकरीबन यही हालात चीन में भी थे। पेईचिंग में आसमान में धुंध छाया हुआ था। लेकिन इस तरह के हालात से किस तरह से निपटा जाता है चीन ने वो साबित किया है।

पेईचिंग में तीन दिनों से छाए धुंध को एक रात में साफ कर दिया गया। अगली सुबह आसमान बिल्कुल सामान्य दिखाई दे रहा था। दरअसल बुधवार को अमेरिका के राष्ट्रपति चीन आनेवाले थे। उससे पहले चीन को धुंध साफ करना था। इसके लिए एक मजबूत कदम उठाए गए। जिसका नतीजा ये हुआ कि ट्रंप के चीन पहुंचने पर मौसम बिल्कुल साफ था। उसे देखकर कोई भी ये नहीं कह सकता था कि एक दिन पहले यहां के हालात इतने बुरे थे।

चीन ने क्या कदम उठाया?

चीन में गाड़ियों और सभी तरह के निर्माण कार्य पर अस्थाई रोक लगा दी गई

स्टील सीमेंट और कोयला कंपनियों के प्रोडक्शन पर अस्थाई रोक लगा दी गई

दूसरे शहरों से आनेवाले वाहनों पर रोक लगा दी गई। लोगों से पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करने को कहा गया

एंटी स्मॉग गन का इस्तेमाल कर पानी का छिड़काव किया गया। जिससे धूलकण जमीन पर आ गए।

चीन में किये गए इन उपायों के बाद अब सवाल ये किये जा रहे हैं कि क्या इसे भारत के संदर्भ में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। चीन में जो सबसे बड़ा काम किया गया उसमें सबसे खास ये था कि उसने लोगों के निजी वाहन का इस्तेमाल बंद कर दिया। ये काम यहां भी किया जा सकता है लेकिन इसके लिए पहली शर्त ये है कि पब्लिक ट्रांसपोर्ट को मजबूत करना होगा।

Loading...

Leave a Reply