China इस फाइटर प्लेन से अमेरिका को देगा टक्कर, भारत के लिए बड़ी चुनौती

नई दिल्ली:  अपनी रक्षा तैयारियों में चीन ने एक लंबी छलांग लगाई है। चीन ने मंगलवार को पहली बार स्टील्थ लड़ाकू विमान चेंगदू J-20 का प्रदर्शन किया। झुहाई में आयोजित एयर शो में इस विमान के देखने वाले भी जुटे थे और इसके खरीदार भी। J-20 को दिखाकर चीन ने बता दिया है कि अपनी रक्षा तैयारियों को मजबूत करने के साथ साथ उसकी नजर इसके बाजार पर भी है।

इस प्रदर्शनी में J-20 ने एक मिनट की फ्लाई-पास्ट की। हलांकि चीन ने विमान की तकनीक और खासियत के बारे में ज्यादा कुछ अभी नहीं बताया है। लेकिन जो जानकारी सामने आई है उसके मुताबिक ये विमान लंबी यात्रा कर सकता है और रडार की पकड़ से भी बच सकता है। विमान 2100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ान भर सकता है। इसकी लंबाई 20 मीटर और ऊंचाई साढ़े चार मीटर है। विमान के डैने 13 मीटर के हैं।

J-20 विमान 36000 किलोग्राम से ज्यादा का वजन लेकर उड़ान भर सकता है। इसमें एकबार में 25 हजार पौंड ईंधन भरा जा सकता है। विमान से हवा से हवा में मार करनेवाली मिसाइल दागी जा सकती है। चीने बेडे में 2018 में ये विमान शामिल हो जाएगा। पाकिस्तान इस विमान को खरीदने में अपनी दिलचस्पी दिखा चुका है।

चीन का J-20 विमान अमेरिका के F-22 और F-35 का जवाब है। अमेरिका अपने इन विमानों को प्रशांत महासागर में तैनात करने की तैयारी में है।

चीन जिस तरह से विमान का निर्माण कर रहा है इसके पीछे एक कोशिश विमान के लिए पश्चिमी देशों पर अपनी निर्भरता कम करने के कोशिश भी है। J-20 का प्रदर्शन कर चीन ने दुनिया को यही संदेश दिया है कि इस दिशा में वो काफी आगे बढ़ चुका है।

Loading...