patient-queue-in-hospital

दिल्ली में चिकनगुनिया से 3 लोगों की मौत

दिल्ली में चिकनगुनिया से 3 लोगों की मौत

दिल्ली: सितंबर का महीना दिल्लीवालों के लिए किसी भयंकर स्वप्न जैसा होता है। किसी एक साल का ये डर नहीं है। हर साल दिल्लीवाले इसी भय के माहौल से गुजरते हैं। भय का ये माहौल इसलिए है क्योंकि दिल्ली में चिकनगुनिया से पहली मौत हुई है। दिल्ली के नामी गंगाराम अस्पताल में ये मौत हुई। मलेरिया से कुछ दिनों पहले पहली मौत हो चुकी है। डेंगू के दर्जनों मरीज अस्पताल में भर्ती हैं ।

अस्पताल में जिन्हें बेड पर जगह नहीं मिली वो जमीन पर ही लेट गए। वार्ड में जगह कम पड़ गई तो बारमदे में आ गए, बरामदा भर गया तो अस्पताल के किसी कोने में इतनी जगह तलाश ली जिसमें वो खुद का इलाज करा सकें। दिल्ली के अस्पतालों की इसी बदइंतजामी पर वरिष्ठ पत्रकार शेखर गुप्ता ने ट्वीट किया जिसमें उन्होंने लिखा ‘5 साल में मलेरिया से पहली मौत, चुकनगुनिया से पहली मौत, दिल्ली सरकार पंजाब, गोवा, गुजरात जीतने चली है।‘ उम्मीद की जा रही थी इस ट्वीट को दिल्ली सरकार गंभीरता से लेगी। लेकिन हुआ इसका उलटा। दिल्ली के सीएम जो पिछले चार दिनों से पंजाब को संवार रहे थे और अब अपने खांसी के इलाज के लिए बेंगलुरु जा रहे हैं उन्होंने जवाबी ट्वीट किया जिसमें लिखा ‘पहले कांग्रेस की दलाली करते थे, अब बीजेपी की दलाली करते हो, कभी अपने उन मालिकों के बारे में भी बता दो जो दुनिया जीतने चले हैं।”

दिल्ली बीमारी के एक भयंकर संकट से गुजर रही है। लेकिन दिल्ली एक तरह से असहाय सी खड़ी है। क्योंकि दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री गोवा में हैं, दिल्ली के सीएम पिछले चार दिनों से पंजाब में अपनी सियासी जमीन को मजबूत कर रहे थे और अब अपना इलाज करवाने बेंगलुरु जा रहे हैं। दिल्ली के उप राज्यपाल विदेशों में हैं। यानि कुल मिलाकर दिल्ली पर डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया ने एक साथ हमला कर दिया है लेकिन जिन्हें इन सारी चीजों से निपटने के लिए एक मजबूत रणनीति तैयार करनी थी वो दिल्ली से बाहर हैं।

 

 

-Satyendra Kumar Jain, Arvind Kejriwal, Delhi Chief Minister,

Loading...

Leave a Reply