दिल्ली में अपने ही मुख्यालय से बेदखल हो जाएगी कांग्रेस?

दिल्ली: केंद्र सरकार अब कांग्रेस को मुख्यालय मुक्त करने की तैयारी में है। दिल्ली कांग्रेस का मुख्यालय 24 अकबर रोड पर है। केंद्र सरकार इस कांग्रेस मुख्यालय के साथ साथ और तीन बंगले कांग्रेस से छीन सकती है। वजह ये है कि इनकी लीज की अवधी खत्म हो चुकी है।

फिलहाल इस प्रस्ताव पर केंद्र सरकार और बीजेपी के बीच चर्चा चल रही है। दो साल पहले ही केंद्र सरकार ने नोटिस देकर इन संपत्तियों की लीज खत्म होने की जानकारी दी थी। इसमें पेंच ये है कि सरकार इन संपत्तियों के लिए कांग्रेस से जून 2013 के बाजार भाव के आधार पर किराया वसूलने की बात कर रही है।

दिल्ली के 24 अकबर रोड पर 1976 से ही कांग्रेस का मुख्यालय है। मोदी सरकार दो साल पहले ही कांग्रेस को जगह खाली करने का नोटिस भेज चुकी है। ये इलाका शहरी विकास मंत्रालय के तहत आने वाले डायरेक्टरेट ऑफ स्टेट्स ने कांग्रेस को नोटिस जारी किया था। जिसमें बकाया वसूली पर विचार हो रहा है।

लीज खत्म होने की सूरत में कांग्रेस को 2010 में ही 9ए साउथ एवेन्यू में नई जमीन आवंटित हो चुकी थी। जिसपर कांग्रेस अपना कार्यालय तैयार कर सकती है। नोटिस में ये भी कहा गया था कि कांग्रेस को लुटियंस जोन और अन्य तीन जगहों पर जो जमीन दी गई थी वहां तीन साल में अपना कार्यालय बना लेना चाहिए था।

नियम भी यही कहता है कि किसी दल को इस तरह जमीन आवंटित होने के तीन साल के अंदर कार्यालय बनवान पड़ता है। दरअसल यहां सारा खेल किराये को लेकर है। सरकार नए दर से किराया वसूल करना चाहती है। इसीलिए नोटिस भी दिया गया है।

Loading...