CBI करेगी पत्रकार राजदेव रंजन मर्डर केस की जांच

CBI करेगी पत्रकार राजदेव रंजन मर्डर केस की जांच

बिहार सरकार ने सीवान में हुए पत्रकार राजदेव रंजन मर्डर केस की जांच सीबीआई को सौंप दी है। बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने सीबीआई की सिफारिश करते हुए कहा की बिहार में कानून का राज है और कानून का राज रहेगा। यहां कोई जंगल राज नहीं है। विरोधी दुष्प्रचार नहीं करें। इस मामले में जो भी दोषी होगा उसे किसी भी हालत में बख्शा नहीं जाएगा। राजदेव के परिवार की तरफ से मामले की सीबीआई जांच की मांग की गई थी। जिसके बाद सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी। ये केस हाई प्रोफाइल इसलिए भी हो गया है क्योंकि इसके पीछे आरजेडी नेता शाहबुद्दीन का नाम जुड़ रहा है। जो इस वक्त सीवान जेल में उम्र कैद की सजा काट रहा है।

सीएम नीतीश कुमार की तरफ से सीबीआई जांच की सिफारिश से पहले केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी कहा था की पत्रकार मर्डर केस कि जांच किसी स्वतंत्र एजेंसी से कराई जानी चाहिए। साथ ही उन्होंने इसे दुखत बताते हुए कहा था कि इससे नीतीश सरकार की विश्वसनीयता सवालों में है।

राजदेव रंजन मर्डर केस हाई प्रोफाइल इसलिए हो गया है कि इसके पीछे सीवान जेल में उम्र कैद की सजा काट रहे आरजेडी नेता शाहबुद्दीन का नाम जुड़ रहा है। विपक्ष नीतीश सरकार पर हमलावर है। बीजेपी नेता सुशील मोदी ने भी ये आशंका जताई थी कि इस हत्याकांड में शाहबुद्दीन के शामिल होने से इनकार नहीं किया जा सकता है।

13 मई की शाम को सीवान रेलवे स्टेशन के पास राजदेव रंजन की हत्या की गई थी। जिस तरह से इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया उससे ये बात भी सामने आ रही है कि आरोपी पूरे इलाके से वाकिफ थे। उन्हें ये भी पता था की वहां किन किन जगहों पर सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। पुलिस के मुताबिक आसपास जितने भी सीसीटीवी कैमरे लगे थे उन सभी में केवल हत्यारों की पीठ दिखाई दे रही है। एक संभावना ये भी जताई जा रही है कि हत्याकांड को अंजाम देने के बाद हत्यारे बिहार की सीमा पार कर उत्तर प्रदेश भाग गए होंगे। हलांकी पुलिस ने इस मामले में अबतक 4 लोगों को गिरफ्तार किया है। लेकिन किसके ईशारे पर इस हत्याकांड को अंजाम दिया गया ये पता चलना अभी बाकी है।

Loading...

Leave a Reply