बुराड़ी केस: रजिस्टर में लिखा था ‘अगली दिवाली नहीं देख सकोगे’

नई दिल्ली:  बुराड़ी केस में अभी तक ये साफ नहीं हो सका है कि 11 मौत के पीछे वजह केवल आत्मा और मोक्ष है या फिर इसमें किसी की साजिश भी है। पुलिस की जांच जारी है। इस बीच घर से मिले एक रजिस्टर में लिखा है कि परिवार के लोग अगली दिवाली नहीं देख सकेगे। इस रजिस्टर में भटकती आत्माओं का भी जिक्र है।

11 नवंबर 2017 की तारीख में ललित ने रजिस्टर में लिखा है परिवार के किसी सदस्य की गलती की वजह से हम वो हासिल करने में चूक गए।

पुलिस के मुताबिक ललित सिंह चुंडावत के शरीर में कथित तौर पर उसके पिता की आत्मा आती थी। पिता की आत्मा के शरीर में आने के बाद ललित अपने पित की तरह हरकत करता था और नोट लिखवाया करता था। नोट में कहा गया है धनतेरस आकर चली गई। किसी की पुरानी गलती की वजह से कुछ प्राप्ति से दूर हो। अगली दिवाली नहीं मना सकोगे। चेतावनी को नजरअंदाज करने की बजाय गौर किया करो।

रजिस्टर में ललित के पिता के साथ चार आत्माओं के मौजूद रहने की बात भी सामने आई थी। इन आत्माओं के बारे में 19 जुलाई 2015 को लिखा गया था। जिसमें लिखा है अपनी सुधार की गति बढ़ा दो। मैं तुम्हारा धन्यवाद करता हूं कि तुम भटक जाते हो। लेकिन फिर एक दूसरे की बात मानकर एक छत के नीचे मेल मिलाप कर लेते हो। पांच आत्माएं अभी मेरे साथ भटक रही हैं। अगर तुम अपने में सुधार करोगे तो उन्हें भी गति मिलेगी। तुम तो ये सोच रहे होगे कि हरिद्वार जाकर सबकुछ कर आए तो गति मिल जाएगी। सज्जन सिंह, हीरा, दयानंद और गंगा देवी ये सभी मेरे सहयोगी बने हुए हैं। ये लोग भी चाहते हैं कि तुम सब सही कर्म करके अपना जीवन सफल बनाओ। अगर हमारे नियमित काम पूरे हो जाएंगे तो हम अपने वास को लौट जाएंगे।

इधर पुलिस ने ये पता लगा लिया है कि रजिस्टर में जिन चार आत्माओं के नामों का जिक्र है वो कौन हैं। पुलिस ने जब उन नामों के बारे में पता किया तो ये बात सामने आई कि सज्जन सिंह, हीरा, दयानंद और गंगा देवी ललित के परिवार के ही लोग हैं। कुछ साल पहले उनकी मौत हुई थी।

(Visited 21 times, 1 visits today)
loading...