अब बजट नहीं ‘बहीखाता’ बोलिये, ब्रीफकेस की जगह लाल कपड़े में आया बहीखाता

नई दिल्ली:  देश में दूसरी बार एक महिला वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बजट पेश करेंगी। इसबार बजट में कुछ बदलाव भी किये गए हैं। इसबार बजट शब्द की जगह बहीखाता शब्द का इस्तेमाल किया गया है। यानि बजट को अब बहीखाता नाम दिया गया है। इसके पीछे वजह बताई गई है कि ये गुलामी से आजादी का प्रतीक है। निर्मला सीतारमण से पहले इंदिरा गांधी ने वित्त मंत्री के तौर पर 28 फरवरी 1970 में केंद्रीय बजट पेश किया था।

आमतौर पर बजट को ब्रिफकेस में लेकर वित्त मंत्री सामने आते थे। लेकिन इसबार ब्रीफकेस की जगह लाल मखमली कपड़े का प्रयोग किया गया है। इसी लाल कपड़े में बजट की कॉपी लेकर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण सामने आईं। जिसके बाद वो राष्ट्रपति भवन गईं। जहां बजट की पहली प्रति राष्ट्रपति को सौंपी गई।

राष्ट्रपति को बजट की कॉपी सौंपने के बाद निर्मला सीतारमण कैबिनेट से बजट को स्वीकृति दी जाएगी। उसके बाद 11 बजे बजट पेश किया जाएगा। ब्राउन रंग के ब्रीफकेस की जगह लाल रंग के कपड़े में बजट को रखना एक बदलाव को दिखाता है। मुख्य आर्थिक सलाहकार ने कहा कि बजट की जगह लाल कपड़े का इस्तेमाल इसलिए किया गया क्योंकि ये भारतीय परंपरा का प्रतीक है। उसी तरह से बजट की जगह बहीखाता का इस्तेमाल गुलामी से आजादी का प्रतीक है। इसके माध्यम से पश्चिमी प्रभाव से मुक्ती दिलाने की कोशिश है।

(Visited 61 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *