बिहार में 68 इंटर कॉलेज और 19 स्कूलों की मान्यता रद्द

पटना: बिहार टॉपर घोटाले में बड़ी कार्रवाई की गई है। बिहार स्कूल इग्जामिनेशन बोर्ड यानि BSEB ने 68 इंटर इंटर कॉलेज और 19 स्कूलों की मान्यता रद्द कर दी है। पिछले दिनों ये बात सामने आई थी कि किस तरह से पैसे लेकर बिहार में फर्जी टॉपर तैयार किये जा रहे हैं। इस मामले बड़े बड़े नामों को जेल की हवा खानी पड़ी थी।

टॉपर घोटाले में पैसों का खेल कुछ इस तरह से खेला जा रहा था कि टॉप करनेवाले छात्र को ये भी पता नहीं होता था कि उसने किस किस विषय की परीक्षा दी है। मामले का खुलासा तब हुआ था जब ऐसी ही एक टॉपर रुबी राय ने एक छोटे से सवाल का गलत जवाब दिया था। रूबी से पूछा गया था कि उसने कौन कौन से विषय का चयन किया था। तो इस सवाल के जवाब में रुबी ने अपना एक विषय प्रोटिकल साइंस (पॉलिटिकल साइंस) बताया था।

दुनिया की तमाम डिक्शनरी इस विषय का मतलब और इस विषय को ढूंढने में फेल हो गई। डॉक्टरेट करके बैठे लोगों ने भी रुबी के इस अदभुत ज्ञान के सामने अपने हथियार डाल दिये। लेकिन जब रुबी के इस विषय की खोज की गई तो पता जला जिस प्रोटिकल साइंस की पढ़ाई रुबी ने की है असल में उस विषय का सही उच्चारण पॉलिटिकल साइंस है। रुबी की जुबान इसलिए लड़खड़ा रही थी क्योंकि उसने नोटों के बंडल देकर डिग्री में खुद के टॉपर होने का तमगा हासिल किया था। बाद में रुबी को जेल की हवा भी खानी पड़ी थी।

इसके बाद जब जांच शुरु हुई तो पता चला यहां एक नहीं कई फर्जी टॉपर हैं। सौरभ श्रेष्ठ भी उसी टाइप के टॉपर थे। इनसे भी जब उनके विषयों को लेकर मामूली सवाल किये गए तो जनाब के होश उड़ गए। इसके बाद विषुणराय कॉलेज के खिलाफ कार्रावाई शुरु की गई। लेकिन केवल एक ही कॉलेज से डिग्री बेचने का काम नहीं होता था। पूरी जांच बिठाई गई। जिसके बाद BSEB ने 68 इंटर कॉलेज और 19 स्कूलों की मान्यता रद्द कर दी।

Loading...

Leave a Reply