भाई शिवपाल को मुलायम का बोनस ‘मंत्री भी रहेंगे और प्रदेश अध्यक्ष भी’

दिल्ली: विवादों से गुजर रहे मुलायम का परिवार अभी पूरी तरह से इससे निकल नहीं पाया है। विवाद को शांत करने कोशिश जारी है। जिस तरह के संकेत मिल रहे हैं उससे ये एहसास भी हो रहा है कि समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव अब खुद मोर्चा संभाल रहे हैं। क्योंकि बात जरा ज्यादा बिगड़ गई है।

दिल्ली में बैठे सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने साफ किया है कि शिवपाल सिंह यादव मंत्री भी बने रहेंगे और सपा के प्रदेश अध्यक्ष भी बने रहेंगे। अपने इस फैसले के बारे में मुलायम सिंह यादव ने कहा कि ये फैसला रामगोपाल यादव से बातचीत के बाद लिया गया है। मुलायम सिंह से जब शिवपाल की नाराजगी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वो नाराज नहीं है। मंगलवार रात को शिवपाल से 7 मंत्रालय छीने जाने के बाद बुधवार को उन्होंने दिल्ली में सपा सुप्रीमो और अपने भाई मुलायम सिंह से मुलाकात की थी। हलांकी तबतक शिवपाल के रुख में भी थोड़ी नरमी आ गई थी।

दिल्ली में मुलायम का आशीर्वाद हासिल कर शिवपाल लखनऊ के लिए रवाना हो गए। उन्होंने वहां सीएम अखिलेश से मुलाकात करने की बात भी कही। शिवपाल से जो कुछ छीना गया था वो सबकुछ उन्हें बोनस के साथ मुलायम ने लौटा तो दिया। लेकिन मुलायम परिवार में चल रही कड़ी और बड़ी नाराजगी यहीं खत्म नहीं होती है। इसमें अभी कई और भी पेंच हैं, जो मुलायम परिवार में पर्दे के पीछे है। आनेवाले दिनों में वो नाराजगी भी बाहर आएगी।

वहीं दूसरी तरफ चचा रामगोपाल यादव के बाद मंत्री आजम खान भी सीएम अखिलेश के समर्थन में सामने आ गए हैं। यानि एक नजर में यूपी में समाजवादी पार्टी अभी अलग अलग मोर्चों पर खड़ी दिखाई दे रही है। और उन हर मोर्चे का प्रतिनिधित्व अलग-अलग चेहरा कर रहा है। इस विकट परिस्थिति में मुलायम की कोशिश सभी को समेटकर एक जगह पर लाने की है। ताकि घर की लड़ाई का असर प्रदेश में पार्टी की साख पर नहीं पड़े।

Loading...