इथोपिया विमान हादसे के बाद बोइंग जमीन पर, भारत में भी बोइंग 737 मैक्स पर बैन

नई दिल्ली:  6 महीने में हुए दो विमान हादसे के बाद बोइंग 737 मैक्स के नाम से लोग खौफ में आ जाते हैं। रविवार को इथोपिया में बोइंग 737 मैक्स विमान ही दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। जिसमें विमान में सवार 157 यात्रियों की मौत हो गई। इस हादसे के बाद कई देशों ने बोइंग 737 मैक्स विमानों की उड़ान पर बैन लगा दिया है। भारत में भी तत्काल प्रभाव से बोइंग 737 मैक्स विमानों की उड़ान पर बैन लगा दिया गया है।

मिनिस्ट्री ऑफ सिविल एविएशन की तरफ से कहा गया है कि जबतक सुरक्षा जांच पूरी तरह से मुकम्मल नहीं हो जाती है तबतक ये रोक जारी रहेगी। यात्रियों की सुरक्षा को सर्वोपरी बताते हुए डीजीसीए ने कहा है वो संबंधित एयरलाइंस और एजेंसियों से लगातार संपर्क में हैं। उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि सभी एयरलाइंस कंपनियों की आपात बैठक बुलाई गई है। जिसमें यात्रियों को किसी भी परेशानी से बचाने पर चर्चा की जाएगी।

इससे पहले कई और देशों ने भी बोइंग 737 मैक्स पर बैन लगा दिया है। ब्रिटेन, न्यूजीलैंड, ओमान यूएई, फ्रांस, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर, मलेशिया, आयरलैंड, आइसलैंड, चीन, इंडोनेशिया जैसे देशों ने बैन लगा दिया है। यूके ने तो अपने एयरस्पेस में इस विमान के प्रवेश पर ही रोक लगा दी है। चीन में वोइंग 737 मैक्स की उड़ान पर लगी रोक के बाद वहां 100 विमान खड़े हो गए हैं।


मौजूदा हालात में स्पाइस जेट ने बयान जारी कर कहा है कि वह विमान के मुद्दे को लेकर डीजीसीए और बोइंग दोनों से जुड़ी है। उसके लिए यात्रियों की सुरक्षा सर्वोपरि है। जेट एयरवेज ने खुद के कर्ज में डूबे होने की बात कहते हुए कहा कि विमानों का किराया देने में असमर्थ है। ऐसे में विमानों का संचालन करने की स्थिति में वो नहीं है।

वहीं बोइंग विमान ने बयान जारी कर कहा है कि विमान की सुरक्षा उसकी सबसे पहली प्राथमिकता है। कंपनी ने विमान को सुरक्षित बताया है। कंपनी ने सभी एजेंसियों से उनपर भरोसा बनाए रखने की अपील की है।

रविवार को इथोपिया में हुए विमान हादसे में 157 लोगों की मौत हुई थी। इससे पहले अक्टूबर 2018 में इंडोनेशिया में भी बोइंग का यही विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ था। जिसमें 189 यात्रियों की मौत हुई थी।

(Visited 10 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *