BJP president Amit Shah

इसीलिए हेलीकॉप्टर से बद्रीनाथ नहीं गए BJP अध्यक्ष अमित शाह!

इसीलिए हेलीकॉप्टर से बद्रीनाथ नहीं गए BJP अध्यक्ष अमित शाह!

बीजेपी अध्यक्ष Amit Shah मिशन उत्तराखंड पर निकले हैं। इसकी शुरुआत तो 24 जून को होनी थी लेकिन किन्हीं वजहों से इसकी शुरआत 24 जून को नहीं हो सकी। जिसके बाद 25 जून से इसकी शुरुआत हुई। इस मिशन उत्तराखंड की शुरुआत केदारनाथ और बद्रीनाथ के दर्शन से हुई। Amit Shah का केदारनाथ पहुंचना केवल पूजा प्रार्थना के लिए नहीं था बल्कि मिशन उत्तराखंड की शुरुआत Amit Shah ने बाबा केदारनाथ का आशीर्वाद लेकर किया।

BJP president Amit Shah-2केदारनाथ के बाद शाह का अगला ठिकाना बद्रीनाथ रहा। जहां वो हेलीकॉप्टर से भी जा सकते थे। लेकिन एक अंधविश्वास ने उन्हें ऐसा करने की हिम्मत नहीं दी। मान्यता ये है कि जो भी नेता बद्रीनाथ हेलीकॉप्टर से गया उसकी कुर्सी चली गई। इस तरह से पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी, पूर्वी प्रधानमंत्री राजीव गांधी, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड़ के पूर्व मुख्यमंत्री एन डी तिवारी, पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी,यूपी के पूर्व राज्यपाल सूरजभान, मोतीलाल बोरा, रोमेश भंडारी के साथ साथ रमेश पोखरियाल निशंक को भी हैलीकॉप्टर से बद्रीनाथ की यात्रा के बाद कुर्सी से हाथ धोना पड़ा।

ये बात पुरानी जरुर हो गई, इसमे सच्चाई ज्यादा है या फिर केवल इत्तेफाक लेकिन इस बारे में जान लेने के बाद अब कोई नेता हेलीकॉप्टर से बद्रीनाथ तक पहुंचने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा है। Amit Shah भी उन्हीं में से है। उत्तराखड उनके पहुंचने का मकसद था राज्य में खोई सत्ता को दोबारा हासिल करना। ऐसे में जोखिम लेने की क्या जरुरत। थोड़ी दूर चल लेने से अगर कुर्सी बची रह जाती है तो इसमे कोई बुराई नहीं है।

माना ये जाता है कि मंदिर के ऊपर हेलीकॉप्टर उड़ाने से भगवान बद्रीनाथ नाराज हो जाते हैं। सेना के हेलीकॉप्टर भी मंदिर के ऊपर नहीं उड़ते हैं। इसलिए ज्यादातर वीआईपी मंदिर से दो किलोमीटर दूर बने हेलीपैड पर उतर कर मंदिर पहुंचते हैं।

-BJP President Amit Shah, BJP Party, Indira Gandhi, Rajiv Gandhi, ND Tiwari, Lal Krishna Advani, Suraj Bhan

Loading...

Leave a Reply