वेब मीडिया के लिए बने कानून, लोकसभा में सांसद निशिकांत दुबे ने की मांग

नई दिल्ली:  गोड्डा लोकसभा से बीजेपी सांसद निशिकात दुबे ने लोकसभा में वेब मीडिया के लिए कानून बनाने की मांग की है। सत्र के दौरान बोलते हुए उन्होंने कहा कि प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर नियंत्रण के लिए मौजूदा वक्त में कानून है। लेकिन सोशल मीडिया, वेब पोर्टल के लिए सरकार की तरफ से किसी तरह के कानून नहीं बनाए गए हैं। जिसका फायदा फर्जी पत्रकारिता करनेवाले उठाते हैं। और किसी भी व्यक्ति की निजता में दखलअंदाजी करने की कोशिश करते हैं।

लोकसभा में क्या बोले निशिकांत दुबे?

लोकसभा में निशिकांत दुबे ने कहा अभी हमलोग सभी चुनाव लड़कर आए हैं। प्रिंट मीडिया और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को कंट्रोल करने के लिए सरकार ने कोई न कोई कानून बना रखा है। लेकिन फेसबुक के माध्यम से, एप के माध्यम से या इंटरनेट के माध्यम से प्रत्येक जिले में प्रत्येक ब्लॉक में कहीं न कहीं पत्रकार खड़े हो गए हैँ। जो आपके सामने माइक लगा देते हैं और आपके प्राइवेसी पर हस्तक्षेप करते हैं।

उन्होंने आगे कहा इस तरह के पत्रकारों से सारे सांसद तबाह हो चुके हैं। हाल में हुए चुनाव में भी इसका  सामना सभी सदस्यों को करना पड़ा। सांसद निशिकांत दुबे ने सरकार से मांग की कि जिस तरह प्रिंट मीडिया और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया गाइडेड कानून तहत कम करते हैं उसी तरह से जो फेसबुक, इंटरनेट के माध्यम से पेड न्यूज या फेक न्यूज चलानेवालों को कंट्रोल करने के लिए सरकार कानून बनाए।

क्यों जरूरी है कानून?

सांसद निशिकांत दुबे ने जो मांग लोकसभा में बुधवार को की उसकी मांग और जरुरत काफी दिनों से महसूस की जा रही है। क्योंकि वेब मीडिया के लिए किसी तरह के गाइडेड कानून नहीं होने की वजह से कई बार खबरों को भ्रामक और सनसनीखेज बनाकर सोशल मीडिया में प्रसारित किया जाता है। जिसकी वजह से कई बार सामाजिक तानाबाना और सौहार्द को खतरा खड़ा हो जाता है।

कई मामलों में देखा गया है कि नियम और गाइडलाइन के अभाव में फर्जी पत्रकार बनकर अवैध वसूली के लिए खबरें प्रसारित की जाती हैं। इस तरह के मामलों में कई गिरफ्तारी भी हो चुकी है। इसलिए ये बेहद जरुरी है कि सरकार वेब मीडिया के लिए भी कानून और गाइडलाइन जारी करे।

(Visited 73 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *