BJP in Bihar, UP face their enemy

बिहार के बाद यूपी में भी BJP का अपने शत्रु से सामना

बिहार के बाद यूपी में भी BJP का अपने शत्रु से सामना

बिहार विधानसभा चुनाव में BJP जितना विरोधियों के हमलों का जवाब दे रही थी उससे थोड़ा ही कम जवाब अपने घर में देना पड़ रहा था BJP नेताओं को। जानते हैं BJP के वो अपने कौन हैं जो अपनी ही पार्टी को अपने ही सवालों से सवालों के बीच खड़ा करते रहते हैं। जी हां उनका नाम शत्रुघ्न सिन्हा है, पटना वाले। बिहारी बाबू के नाम से भी प्रसिद्ध हैं। BJP के ये वो शत्रु हैं जो कभी दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल से मुलाकात को लेकर चर्चा में रहते हैं तो कभी बिहार के सीएम नीतीश कुमार की तारीफ की वजह चर्चा में रहते हैं तो कभी इसलिए क्योंकि अपनी ही पार्टी की नीतियों पर ये सवाल उठाते रहे हैं। बिहार विधानसभा चुनाव से पहले भी शत्रुघ्न सिन्हा ने अपनी पार्टी से काफी सवाल पूछे थे। यहां तक की इन्होंने ही पार्टी को ये सलाह दी थी कि चुनाव में BJP अपना सीएम कैंडिडेट घोषित कर दे। लेकिन पार्टी ने शत्रु की ये सलाह नहीं मानी। खैर ये तो हुई बिहार की बात। अब यूपी चलते हैं जहां अगले साल यानि 2017 में विधानसभा चुनाव होना है जिसकी तैयारी अभी से शुरु हो चुकी है।

यूपी में अभी ये तय नहीं है कि BJP किसे सीएम उम्मीदवार बनाएगी। बनाएगी भी या नहीं। कहीं बिहार और हरियाणा की तरह ही तो BJP यूपी में भी चुनाव नहीं लड़ेगी। ये वो सवाल हैं जिसके बारे अभी कयास ही लगाए जा सकते हैं। लेकिन कयासों के बीच शत्रुघ्न सिन्हा ने कुछ ऐसा कह दिया जिसने पार्टी को परेशान कर दिया है।

यूपी में सीएम उम्मीदवार के लिए शत्रुघ्न सिन्हा ने वरूण गांधी को सर्वोत्तम उम्मीदवार बताया है। शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा की यूपी में बिजेपी के लिए सही विकल्प हैं वरुण गांधी, जल्द से जल्द वरुण गांधी के नाम का एलान होना चाहिए। शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि वरुण खुद भी युवा हैं और ज्यादातर  युवा भी वरुण गांधी को सीएम बनते देखना चाहते हैं।

अब आप सोच रहे होंगे इसमें मुश्किल जैसी क्या बात है। आखिर BJP को किसी न किसी को तो सीएम उम्मिदवार बनाना है। फिर वरुण गांधी से परहेज क्यों। दरअसल BJP ने यूपी में सीएम कैंडिडेट तैयार करने के लए एक नई योजना बनाई है। सूत्रों के मुताबिक यूपी में BJP की तरफ से सीएम कैंडिडेट कोई सांसद होगा। इसके लिए BJP पूरे यूपी में इंटरनल सर्वे कराएगी। जिस सांसद के समर्थन में जनता का ज्यादा रुझान होगा उसे ही सीएम उम्मीदवार घोषित किया जाएगा। BJP की दूसरी नीति ये है कि पूरे यूपी को 6 हिस्सों में बांटकर चुनाव लड़ा जाए। और चुनाव के बाद जिसके जितने ज्यादा विधायक उसे ही सीएम बनाया जाए। ये सोच तो पार्टी की है। लेकिन शत्रुघ्न सिन्हा की सोच इससे अलग है। उसी सोच को पार्टी लाइन से बाहर की सोच बताई जा रही है। शत्रुघ्न सिन्हा को जो कहना था वो तो उन्होंने कह दिया। लेकिन इतना कुछ कहकर पार्टी के सामने कई सवाल छोड़ दिये। अब पार्टी को एक डर ये भी सता रहा है कि कहीं वरुण गांधी के नाम पर विरोध और समर्थन को लेकर पार्टी दो हिस्से में न बंट जाए। क्योंकि अगर ऐसा होता है तो नुकासन पार्टी का ही होगा। और अगर ऐसा होता है तो BJP के शत्रु इतना तो जरुर कह देंगे की हमने तो पहले ही चेता दिया था। लेकिन किसी ने नहीं सुनी। दूसरी तरफ BJP ये सोच रही है कि इस अपने शत्रु से कैसे निपटें।

Loading...

Leave a Reply