BJP President Amit Shah

इंटरनल सर्वे से BJP यूपी में CM उम्मीदवार तय करेगी!

इंटरनल सर्वे से BJP यूपी में CM उम्मीदवार तय करेगी!

  • वो कौन सांसद हैं जो यूपी में बनेंगे BJP के CM उम्मीदवार ?
  • संगम के तट से BJP की लखनऊ विजय की तैयारी

इलाहाबाद में BJP राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक अहम इसलिए है क्योंकि इस बैठक से BJP यूपी चुनाव की रणनीति तय करेगी। इसी बैठक में ये भी तय होना है कि यूपी चुनाव में बिजेपी की तरफ से CM उम्मीदवार कौन होगा ? हलांकी ये बातें अभी सूत्रों के हावाले से निकलकर बाहर आ रही है। लेकिन इतना तय है कि बीजेपी यूपी में सीएम का चेहरा सामने रखकर चुनाव लड़ना चाहती है। लेकिन मुश्किल ये है कि किसे यूपी में सीएम उम्मीदवार के तौर पर प्रोजेक्ट किया जाए। इसके लिए भी पार्टी ने एक योजना बना रखी है।

बीजेपी के सूत्र ये बता रहे हैं कि यूपी विधानसभा चुनाव की तैयारी शुरु करने से पहले पार्टी यूपी में इंटरनल सर्वे कराएगी। जिसमें 6 नाम ऐसे शामिल होंगे जिसे पार्टी यूपी में सीएम उम्मीदवार के लिए दावेदार मान रही है। सूत्र ये भी बताते हैं की उसी इंटरनल सर्वे में चुनाव के मुद्दों और सीटों पर भी सवाल पूछे जाएंगे। लेकिन सबसे अहम ये सवाल होगा की किसे यूपी विधानसभा चुनाव में सीएम उम्मीदवार बनाया जाए। सूत्रों के मुताबिक लोगों से सीएम दावेदार के समर्थन पर भी सवाल पूछे जाएंगे।

सूत्रों के हवाले से अबतक जो बात सामने आ रही है उसके मुताबिक इतना तय है कि BJP किसी सांसद को यूपी की कमान देने की तैयारी में है। जिसका मतलब ये है कि कोई सांसद ही बीजेपी की तरफ से यूपी सीएम पद का उम्मीदवार होगा। जिन 6 सांसदों की बात हो रही है उनमें योगी आदित्यनाथ और स्मृति ईरानी भी शामिल हैं। नाम तो केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह का भी लिया जा रहा है। लेकिन पार्टी की तरफ से राजनाथ सिंह के नाम की चर्चा को महज एक अफवाह बताया जा रहा है। यानि यूपी में बीजेपी की तरफ से कौन होगा सीएम उम्मीदवार इसके लिए अक्टूबर नवंबर तक का इंतजार करना होगा। क्योंकी BJP उसी वक्त सीएम उम्मीदवार का एलान कर सकती है। एक दूसरा विकल्प ये भी है पार्टी के पास की अगर सीएम का नाम तय नहीं होता है तो बीजेपी पूरे यूपी को 6 हिस्सों में बांटकर चुनाव लड़ेगी। जिसमें से हर एक हिस्से की जिम्मेदारी उन 6 सांसदों के जिम्मे दी जाएगी जिसे पार्टी सीएम उम्मीदवार मान रही है। और अगर चुनाव के बाद पार्टी यूपी में सरकार बनाने की हालत में होती है तो फिर इनमें से किसी एक नाम को तय किया जाएगा। जाहिर है इसमें उस सांसद की दावेदारी सबसे मजबूत होगी जिसके क्षेत्र में ज्यादा सीट पार्टी को मिलेगी।

Loading...

Leave a Reply