त्रिपुरा में बीजेपी कार्यकर्ताओं ने बुलडोजर से गिराई 25 साल पुरानी लेनिन की मूर्ति

त्रिपुरा:  त्रिपुरा विधानसभा चुनाव में वामदल का किला ध्वस्त हो गया। बीजेपी को राज्य में भारी जनाधार मिला और पार्टी राज्य में अपनी सरकार बनाने जा रही है। बीजेपी की ऐतिहासिक जीत के बाद ही कई जगहों पर मारपीट की खबर आई थी। राज्य में सीएम की कमान किसे सौंपी जाएगी इसका फैसला एक दो दिनों में हो जाएगा। लेकिन इस बीच बीजेपी कार्यकर्ताओं पर साउथ त्रिपुरा डिस्ट्रिक्ट के बेलोनिया सबडिविजन में बुलडोजर की मदद से लेनिन की मूर्ति गिरा दी गई।

लेनिन रूसी क्रांति के नायक थे। वो साम्यवादी विचारधारा के नायक थे और वाम दल उन्हें अपना आदर्श मानते हैं। पिछले 25 साल से लेनिन की मूर्ति त्रिपुरा के बेलोनिया चौक पर खड़ी थी। इस मूर्ति को गिराने का आरोप बीजेपी कार्यकर्ताओं पर लगा है। लेनिन की इस मूर्ति को बुलडोजर की मदद से गिराया गया। वामदलों ने बीजेपी कार्यकर्ताओं की हरकत पर विरोध जताया है। लेफ्ट ने कहा है ये डराने की कोशिश है।

त्रिपुरा के राज्यपाल तथागत रॉय लेनिन की मूर्ति गाराए जाने पर बीजेपी का बचाव किया है। उन्होंने ट्वीट किया एक चुनी हुई सरकार जो गलती करती है उससे उलट दूसरी चुनी हुई सरकार उसमें सुधार करती है।

राम माधव ने ट्वीट किया ये रूस नहीं त्रिपुरा है। लोग लेनिन की मूर्ति गिराने की चर्चा कर रहे हैं। चलो पलटाई।

त्रिपुरा चुनाव में बीजेपी ने चलो पलटाई का नारा दिया था। और राज्य की जनता को बीजेपी का ये नारा पसंद आ गया और त्रिपुरा में सत्ता पलट गई। विधानसभा चुनाव में त्रिपुरा की कुल 60 सीटों में से 59 पर मतदान हुआ था। जिसमें बीजेपी गठबंधन को 43 सीटों पर जीत मिली। वहीं राज्य की सत्ता पर 25 सालों से काबिज सीपीएम को केवल 16 सीट ही मिली।

Loading...