सुपौल: फर्जी श्रम कार्यालय चलाने वाले आरोपी के समर्थन में उतरीं महिलाएं

प्रदीप जैन/सुपौल

सुपौल/बिहार:  फर्जी श्रम विभाग कार्यालय भंडाफोड़ मामले में आरोपी के समर्थन में उतरीं सैंकड़ों महिलाएं। महिला लाभुकों ने शुक्रवार को एसडीओ कार्यालय पहुंच कर आरोपी सरगना रामदेव पासवान को निर्दोष बताया और मामले से बरी करने की मांग की। श्रम विभाग की सन्निर्माण कर्मकार से जुड़ी योजना को लेकर आवेदन देने वाली तमाम महिला लाभार्थियों ने सीधा आरोप श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी और सबसे बड़े एजेंट के रूप में कार्यरत ओमप्रकाश चौधरी पर संगीन आरोप लगाए है।

मामले में आवेदन में स्पष्ट आरोप है कि एसडीओ कार्यालय के समीप संचालित ओमप्रकाश के घर पर कार्यालय कई महीनों से चल रहा था। जहां काम के एवज में लाभार्थियों से एक हजार रुपये से लेकर चार हजार रुपये बतौर घूस ली गई। वहीं मामले में जिन दो लोगों को पकड़ा गया है उन्हें मामले में जबरन घसीटा जा रहा है। साथ ही रामदेव पासवान की भूमिका भी मामले में नही है।

षडयंत्र की आशंका जाहिर करते हुए महिलाओं ने कहा कि रामदेव को जानबूझ कर फंसाया जा रहा है। जबकि उसका इस मामले से कोई लेना देना नहीं है। एसडीओ विनय कुमार ने महिला लाभार्थियों को समझाते हुए कहा कि मामले की निष्पक्षता से जांच की जाएगी। दोषी को नहीं छोड़ा जाएगा ।

Loading...