बीजेपी के शत्रु को भाने लगा लालू निवास, सियासी पता बदलेगा क्या?

नीरज झा/डेस्क
पटना/बिहार:  बिहार मे बदलते सियासी समीकरण  में लालू प्रसाद और उनके परिवार से शॉटगन के मिलने के बाद कयासों का दौर जारी हो गया है। राजनीति में तस्वीरों और कयासों का अपना अपना महत्व होता है, हांलाकि अभी कुछ कहना जल्दबाजी हो सकती है। लेकिन लालू परिवार के साथ शाॅटगन  की नजदीकियां इन कयासों को हवा दे रही है कि क्या अब बिहारी बाबू शत्रुघ्न  सिन्हा का नया ठिकाना राजद है। क्या लालू के साथ मिलकर शत्रुघ्न  सिन्हा अपनी बगावत को आगे बढ़ाना चाहते हैं?  ये वही शत्रुघ्न सिन्हा हैं जिन्होंने  कभी नारा दिया था ‘लालटेन में तेल नईखे घरवा अंन्हार बा, लालू के वोट देवल एकदम बेकार बा’।
कहते हैं राजनीति में कोई स्थायी दोस्त और दुश्मन नहीं होता है।  इन दिनों एक तस्वीर वायरल हो रही है जो राजनीतिक के दो धुर विरोधियों के बीच नजदीकियों की गवाही दे रही है। भाजपा और राजद इन दो पार्टियों की राजनीतिक विचारधारा अलग-अलग है, विचारधारा के नाम पर लालू की राजद बनाम बीजेपी की राजनीतिक लड़ाई की बात करें तो इन दोनों का आंकड़ा 36 का है। लेकिन इन दिनों बीजेपी के कद्दावर नेता और भाजपा सासंद शत्रुघ्न  सिन्हा लालू यादव के परिवार के साथ देखे जा रहें हैं।
शनिवार को इससे पहले  शत्रुघ्न सिन्हा ने कांग्रेस नेता सुबोधकांत सहाय के साथ रांची के रिम्स में जाकर लालू यादव से मुलाकात की थी। भेंट के बाद उन्होंने कहा था कि लालू को जनता की अदालत में इंसाफ मिलेगा।  तेज प्रताप ने ट्विटर पर आभार  व्यक्त करते हुए लिखा है कि ए ग्रेट सेल्फी विथ होनरेबल मिस्टर शत्रुघ्न सिन्हा सामंती सरकार के खिलाफ हम बहुजनो की लड़ाई में अभिभावक के रूप मे  खड़े बिहारी बाबू शत्रुघ्न सिन्हा को बहुत बहुत धन्यवाद।

हालांकि शत्रुघ्न  सिन्हा बीते समय  से भाजपा से बगावत किये बैठे हैं।  बावजूद इसके यह साफ नहीं हो पा रहा था कि अगर इस बगावत की सजा शत्रुघ्न  सिन्हा को मिली और उन्हें पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखाया, या अपने बगावत को मुकम्मल अंजाम देने के लिए वे खुद पार्टी से अलग होते हैं तो उनका नया राजनीतिक ठिकाना कौन सा दल होगा?
Loading...