सहरसा: तीन तलाक बिल के खिलाफ सड़क पर उतरीं मुस्लिम महिलाएं

गौतम कुमार/सहरसा
सहरसा/बिहार:  मुस्लिम महिलाओं के ओर से तीन तलाक बिल के विरोध में हक की लड़ाई लड़ी जा रही है। तीन तलाक बिल के विरोध में आज सहरसा के पटेल मैदान में अपने हक़ को लेकर मुस्लिम महिलाएं सड़क पर उतरीं। हजारों की संख्या में मुस्लिम महिलाओ द्वारा विशाल रैली निकाली गयी। जिसमें मुस्लिम महिलाओं द्वारा कहा गया कि इस्लामी सरियत हमारा सम्मान है । हम सरकार द्वारा इस्लामी सरियत में फेरबदल को बर्दाश्त नहीं करेंगे। विरोध कर रही महिलाओं ने सरकार से तीन तलाक बिल वापस लेने की मांग की ।
तीन तलाक
तलाक ए बिद्दत (तीन तलाक) के तहत अगर एक  व्यक्ति अपनी पत्नी को एक बार में तीन तलाक बोल देता है या फोन, मेल, मैसेज या पत्र के जरिए तीन तालक दे देता है तो इसके बाद तुरंत तलाक हो जाता है। ट्रिपल तालक, जिसे तालाक-ए-बिद्दात, तत्काल तलाक और तालक-ए-मुघलाजाह (अविचल तलाक) के रूप में भी जाना जाता है।
तीन तलाक बिल
केंद्र सरकार द्वारा तीन तलाक बिल के तहत अगर कोई व्यक्ति तीन तलाक बोलकर या इलेक्ट्रॉनिक तरीके जैसे फोन, मेल, मैसेज या पत्र के जरिए तीन तालक दे देता है तो उसे 3 साल को सजा हो सकती है। तीन तलाक के खिलाफ बना ये बिल लोकसभा में तो पास हो गया लेकिन राज्य सभा में लटक गया। विपक्ष की तरफ से इसमें बदलाव की मांग की गई।
ये मामला सुप्रीम कोर्ट भी पहुंचा था। जिसके बाद मामला सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ को भेजा गया था। जहां से पांच जजों की फुल बेंच में बहुमत से तीन तलाक को असंवैधानिक बताया गया था। सरकार से इसपर 6 महीने में कानून बनाने के लिए कहा गया था। लेकिन जबतक कानून नहीं बन जाता है तबतक तीन तलाक असंवैधानिक है और इंस्टेंट तलाक मान्य नहीं है।
इसका एक दूसरा पहलू ये भी है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भी इंस्टेंट तलाक के कई मामले सामने आ चुके हैं। मुस्लिम महिलाओं की तरफ से ही तीन तलाक को अमानवीय बताया गया था और उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था।
तीन तलाक का विरोध कर लौट रही महिलाओं के साथ हादसा
तीन तलाक के रैली में भाग लेने आयी महिलाओं से भड़ा एक टैम्पू रहुआ नहर स्थित चिमनी के पास पलट गई। टैम्पू के पलटने से महिषी प्रखंड के भेलाही निवासी मीणा खातुन, अमनजहां, जिमानी खातुन, सवाप्रवीण, रौशन प्रवीण, नुसरत प्रवीण जख्मी हो गई। जख्मी का इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है। जिसमें मीणा खातुन की स्थिति काफी नाजुक है इसकी नाजुक स्थिति को देखते हुए चिकित्सक ने इन्हें डीएमसीएच दरभंगा रेफर कर दिया है।
Loading...