सहरसा जिला मुख्यालय की सड़कें बारिश के बाद तालाब में हो जाती है तब्दील

गौतम कुमार/सहरसा

सहरसा/बिहार:हर रोज बड़े- बड़े नेताओं और अधिकारियों के आवागमन का गवाह बनने वाले सहरसा जिला मुख्यालय की सड़कें बदहाली है। मुख्यालय की अधिकांश सड़कें जर्जर हो चुकी है, जिसमें कुछ की हालत बेहद चिंताजनक है। इस सड़क से सुरक्षित निकल जाने पर लोग भगवान को दुहाई देते हैं।

ऐसे सड़कों की सूची में नया बाजार डा. गोपाल शरण क्लिनिक होते इग्नू की ओर जानेवाली मुख्य सड़क शामिल है। एक दशक पूर्व बनी यह सड़क जानलेवा हो चुकी है। रोज इस सड़क पर लोग गिरकर चोटिल होते हैं। मोहल्ले के लोगों ने जिलाधिकारी से लेकर सहरसा आगमन पर पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव तक से अपनी फरियाद लगाई, परंतु इस सड़क का उद्धार नहीं हो सका। जिससे लोगों में शासन- प्रशासन के प्रति आक्रोश गहराने लगा है।

बारिश हो जाने के बाद स्थित और भी भयावह हो जाती है। जिलाधिकारी शैलजा शर्मा द्वारा ने सभी सड़क निर्माण विभागों को अपनी-अपनी सड़कों को मोटरेबुल बनाने का निदेश दिया। परंतु उसका असर अभी भी कोई असर इस सड़क पर नहीं दिखाई दे रहा है। इस सड़क पर बड़े- बड़े चिकित्सक रहने के कारण दिनभर वाहनों का रेलमपेल होता रहता है। चारपहिया गाड़ियां तो निकल जाती है, परंतु दोपहिया और साइकिल सवार यात्री को पार होना बहुत मुश्किल हो जाता है।


इस संबंध में मुहल्लावासी अब्दुल नकीम ने बताया कि हर बरसात में यहां के लोग इस सड़क पर आवागमन की परेशानी झेलते हैं। कई बार जिलाधिकारी से लेकर मंत्री तक को आवेदन दिया गया, परंतु लक्जरी गाड़ी पर घूमनेवाले लोगों को आमलोगों की समस्या से क्या मतलब। वही दीपक राज ने कहा कि इस सड़क के किनारे बसे लोग रोज लोगों को गिरते देखते हैं। हर दिन लोग चोटिल होते हैं, परंतु शासन- प्रशासन को तो कोई मतलब ही नहीं है।

वही अर्णव सिंह ने कहा कि यह सड़क पांच वर्ष से बदहाल है। इस ओर से बराबर जनप्रतिनिधि और अधिकारी भी गुजरते हैं। लेकिन इसके निर्माण के लिए कोई पहल नहीं हो रही है। गांव- गांव में पक्की सड़क बन रही है, परंतु प्रमंडलीय मुख्यालय की इस महत्वपूर्ण सड़क की कोई सुधि लेनेवाला नहीं है। हमलोग अपने प्रतिनिधि को चुनाव में इसके लिए सबक सिखाएंगे।

इस संबंध में पूछे जाने पर सदर एसडीओ शंभूनाथ झा ने बताया कि दिलीप साह नया बाजार की यह सड़क जिला प्रशासन की प्राथमिकता में शामिल है। इसके लिए सड़क निर्माण विभाग को उचित निदेश दिया गया है। उम्मीद है कि जल्द ही इस दिशा में अपेक्षित कार्रवाई की जाएगी। ताकि लोगों की समस्या का समाधान हो सके।

Loading...