सहरसा:शहर में स्वच्छता की सच्चाई को बयां करती कुछ तस्वीरें

गौतम कुमार/सहरसा
सहरसा/बिहार:सहरसा मुख्यालय की गंदगी को देखकर स्वछता की बाते महज अफवाह जैसी लगती है।सहरसा में कुछ जगहों की तो ऐसी हालत है वहां से गुजरना बीमारियों को न्योता देने के बराबर है।हालांकि विभाग की ओर से स्वछता का दावा तो जरूर किया जाता है लेकिन सच्चाई धरातल पर कुछ और ही नजर आती है।

ये हालत किसी एक वार्ड या मोहल्ले की नही है।लगभग पूरा शहर गंदगियों में डूबा रहता है।सरकार की ओर से न जाने कितने राशि साफ सफाई के मद में विभाग तो पहुचता है लेकिन विभाग पहुचने के बाद साफ सफाई तो नही हो पाता है लेकिन सफाई मद की राशि अपना रास्ता भूल जाती है

अगर किसी आम जनता से यह पूछा भी जाता है कि गंदगी को घर के बाहर यत्र तत्र क्यों फेंका जाता है तो उनका बस यही कहना होता है कि बहुत ऐसे वार्ड का जहां डस्टबिन की सुविधा नही है।और नाही कचरा ले जाने की कोई सुविधा है ऐसे में नागरिक बेबस हो जाते है गंदगी फैलाने को।

आज कुछ ऐसी ही तस्वीर शहर में बीचोबीच महावीर चौक के पास के मोहल्ले की और शहर के कुछ हिस्सों की आपके सामने है जो स्वछता की सच्चाई को धरातल पर ले आता है।लेकिन विभाग द्वारा इसके लिए कोई कदम नही उठाया जाता है।शहर को स्वछ भारत के नारे को सुनने को मिलते है लेकिन हाथ लगता है तो बस गंदगी।

(Visited 26 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *