सहरसा: शिक्षक बनने के लिए उतारने पड़े कपड़े और जूते

गौतम कुमार/सहरसा
सहरसा/बिहार:  बी.एड. संयुक्त प्रवेश परीक्षा को लेकर सहरसा में जिला प्रशासन द्वारा दिए गए गाइड लाइन परिक्षार्थियो के लिए नहसूर बनकर सामने आया जिसपर परीक्षार्थी काफी नाखुश नजर आये।और छात्र संगठनों द्वारा विरोध किया गया।

बता दें कि सहरसा ज़िले में परीक्षा को लेकर एम एल टी कॉलेज एवं रमेश झा महिला कॉलेज को केंद्र बनाया गया था ।जिसके पूर्व ही कुछ दिशा निर्देश जारी किये गए थे।

जिसके तहत परीक्षार्थियों को बनियान में ,बिना बनियान और खाली पैर परीक्षा देने को मजबूर होना पड़ा।सुरक्षाकर्मी परीक्षा द्वारा सेंटर गेट पर ही जांच के दौरान परीक्षार्थियों के कपड़े देख रहे थे। जो परीक्षार्थी फूल शर्ट, फूल टी शर्ट या जूते में परीक्षा केंद्र के अंदर जाने की कोशिश करते थे। सुरक्षाकर्मी द्वारा उनका शर्ट और जूते उतरवा लिया गया।

क्या था गाइडलाइन…

बी.एड. संयुक्त प्रवेश परीक्षाकदाचारमुक्त एवं शांतिपूर्ण आयोजन के लिए शनिवार को समाहरणालय सभा कक्ष में जिला पदाधिकारी  शैलजा शर्मा की अध्यक्षता में बैठक कर दिशा निर्देश जारी किया गया।

फुल शर्ट और जूता पहन कर परीक्षार्थी केंद्र में प्रवेश वर्ज़ित होगा।

परीक्षार्थी केवल एडमिट कार्ड, पोस्टकार्ड साईज का फोटो चिपका हुआ फोटो शीट, आधार कार्ड अथवा कोई भी फोटो पहचान-पत्र एवं नीली/काली बॉल पेन ही परीक्षा केंद्र के अंदर ले जा सकेंगे।

मोबाइल, कोई भी इलेक्ट्रोनिक गैजेट्स, कैमरा, ब्लू टूथ, कैलकुलेटर, पेजर, इंस्ट्रुमेंट बॉक्स, घड़ी, ए.टी.एम.कार्ड के साथ प्रवेश वर्जित रहेगा।

केंद्र पर प्रतिनियुक्त स्टैटिक दंडाधिकारी/पुलिस पदाधिकारी, प्रतिनियुक्त वरीय शिक्षक पूरी तरह जांच के बाद ही परीक्षार्थियों को केंद्र में प्रवेश करने देंगे।

प्रत्येक परीक्षा केंद्र के प्रत्येक कमरे, बाथरूम में अभ्यर्थियों की संख्या, कमरों के आकार के अनुसार जैमर लगाया जाएगा सहित अन्य निर्देश जारी किया गया था।

हालांकि इसके बाद भी परीक्षा शांतिपूर्वक समाप्त हुई।

(Visited 49 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *