प्रेमी के साथ मिलकर पत्नी ने पति का कत्ल कर दिया

प्रेमी के साथ मिलकर पत्नी ने पति का कत्ल कर दिया

प्रियांशु/पूर्णिया

पूर्णिया/बिहार: पवित्र अग्नि को साक्षी मानकर गोपाल ने जब सुमन के साथ वर्ष 2005 में सात फेरे लिए थे तो उसने कभी सपने में भी नहीं सोचा होगा कि उस​की जीवनसंगिनी ही एक दिन बेवफा होकर उसकी कातिल बन जाएगी। प्यार, संयम व विश्वास के पवित्र बंधन को शर्मसार करने वाली यह घटना पूर्णिया के कसबा की है। विश्वास को तार तार कर देने वाला यह सनसनीखेज मामला कसबा थाना क्षेत्र अंतर्गत घोड़दौड़ पंचायत के स्टेशन मोहल्ला से प्रकाश में आया है।

बताया जाता है कि गोपाल चौरसिया की पत्नी सुमन देवी का अपने मायके के दिनेश के साथ अवैध संबंध था। दोनों के बीच करीब दो साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था। इस बात की भनक जब महिला के पति को लगी तो उसने पत्नी पर कुछ दिनों से बंदिशें लगा दी। यह बात पत्नी सहित उसके प्रेमी को नागवार गुजरा। जिसके बाद उसकी पत्नी ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर जो योजना बनाई वो दिल को दहला देने वाली थी।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार की देर रात जब गोपाल वापस घर लौटा और रोजमर्रा की क्रियाकलाप के बाद नींद की आगोश में चला गया। तब उसके साथ जो कुछ हुआ उसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती है। गहरी नींद में ही उसकी पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर उसपर हमला बोल दिया और गला काटकर शव को चार टुकड़ा कर उसे सदा के लिए मौत की नींद सुला दी।

चर्चा यह है कि गोपाल के आने के पूर्व ही उसकी पत्नी ने अपने प्रेमी को घर में छुपा रखा था। हालांकि प्रेमी घर में पूर्व से ही मौजूद था या फिर वो बाद में दाखिल हुआ, इस बात का खुलासा पुलिसिया पूछताछ के बाद ही सामने आएगा। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस ने पति की हत्या के आरोप में सुमन देवी और उसके प्रेमी दिनेश चौरसिया को गिरफ्तार कर लिया है।

उधर, कसबा थानाध्यक्ष अरविंद कुमार ने घटना की पुष्टि करते हुए गिरफ्तार आरोपी से पूछताछ जारी रहने की बात कही है। बहरहाल, प्यार, प्रेम व धोखा की इस कहानी में गोपाल-सुमन के तीन बच्चों की आंखें हर आने जाने वालों से पूछ रही है कि ‘मेरी खता क्या है…। गौरतलब है कि इन बच्चों के सिर से पिता का साया उठ चुका है और अभागिन मां सलाखों के अंदर है।

पत्नी सुमन देवी अपने प्रेमी दिनेश चौरसिया के साथ हत्या के बाद शव को चार टुकड़ों में काटकर अलग अलग जगहों पर फेंक दिया। जब कसबा पुलिस ने पत्नी सुमन को गिरफ्तार कर पूछताछ की तो उस दरम्यान पता चला कि शरीर के सिर और पैर को सरोचिया गांव के पोखर में और बचे धर को घर के शौचालय की टंकी में डाल दिया था। इस संबंध में बताया जाता है कि मृतक गोपाल के तीन बच्चे हैं और वह गढ़बनैली बाजार में किताब की दुकान चलाता था। मृतक गोपाल चौरसिया पिता सुरेश प्रसाद चौरसिया मूल निवासी खगड़िया जिले के जमालपुर थाना के बड़ी मलका गांव के थे। मृतक अपनी पत्नी सुमन के नाम से गढ़बनैली में जमीन लेकर मकान बनाकर रह रहा था। बताया जाता है कि मृतक की मां सुमित्रा देवी को भी सुमन ने जहर खिलाकर 18 माह पूर्व जान ले ली थी। कसबा थाना पुलिस थाना कांड संख्या 20/18 दर्ज कर त्वरित कार्रवाई करते हुए शव को अपने कब्जे में लेते हुए प्रेमी और पत्नी को जेल भेज दिया है।

Loading...