पुर्णिया यूनिवर्सिटी के कुलपति ने राज भवन में दिया योगदान, आज पूर्णिया दौरा

नीरज झा/पुर्णिया
पुर्णिया/बिहार:  पुर्णिया विश्वविद्यालय के कुलपति आज पुर्णिया आ रहे हैं । उक्त बात की जानकारी पुर्णिया कॉलेज पुर्णिया के प्राचार्य डॉ संजीव कुमार ने दी। प्राचार्य ने बताया कि कुलाधिपति के प्रधान सचिव ब्रजेश मेहरोत्रा का फोन आया था। उन्होंने बताया कि पुर्णिया विश्वविद्यालय के वीसी प्रो. राजेश सिंह आज पुर्णिया आयेंगे। मंगलवार को वीसी ने कुलाधिपति के यहां अपना योगदान दे दिया है। इसको लेकर पुर्णिया कॉलेज प्रशासन ने तैयारी पूरी कर ली है। कुलपति के ठहरने की व्यवस्था से लेकर उनकी आगुवाई के कार्यक्रम में कालेज प्रशासन जुटा है । बताया जा रहा है पूर्णिया विश्वविद्याय के पहले कुलपति प्रो.  सिंह बीएचयू से हैं। कृषि विज्ञान संस्थान में जेनेटिक्स एंड प्लांट बिडिंग के प्रोफेसर है और वो बीएचयू के प्रेस एंड पब्लिसिटी सेल के चेयरमैन रह चुके है।
क्या होगी चुनौती
नये विश्वविद्यालय को रुप लेने में अभी कई चुनौतियों का समाना करना होगा। मसलन नये विश्वविद्यालय के पास अभी भवन के अलावा कुछ नहीं है। वहीं बीएनएमयू के अलग होने के बाद पूर्णिया विश्वविद्यालय को सबसे पहले सामान्य प्रशासन, आकाउंट व परीक्षा नियंत्रक में कर्मी बहाल करना होगा। सामान्य प्रशासन में रजिस्ट्रार, अकाउंट में फाइनेंस ऑफिसर व परीक्षा में परीक्षा नियंत्रक की बहाली करनी होगी। वहीं बंटवारे के बाद बीएनएमयू से कितने कर्मचारी पूर्णिया विश्वविद्यालय में आते है ये देखना दिलचस्प होगा।

वहीं जुलाई से सेशन शुरु करने में पुर्णिया यूनिवर्सिटी पर स्टाफ, परीक्षा संचालन की जिम्मेदारी होगी। विश्वविद्यालय को पंजीयन से लेकर परीक्षा तक की समस्याओं का समाधान करना होगा। सबसे बड़ी समस्या सत्र 15-16 के पार्ट टू की परीक्षा दे चुके छात्र जो तीसरे पार्ट में परीक्षा फॉर्म भरेंगे।16-17 सत्र के उन छात्रों के लिए है जो बीएनएमयू से पार्ट वन व दू की परीक्षा दे चुके है और पार्ट थर्ड की परीक्षा देंगे। उनका क्या होगा। वहीं जानकारों की माने तो जो भी छात्र जहां से रजिस्टर्ड होते है वहीं परीक्षा देते है। तो क्या विश्वविद्यालय ऐसे छात्रों को नये विश्वविद्यालय में रीरजिस्ट्रेशन करवाना होगा।
दोनों कुलपति आपस में करेंगे तय
जिन छात्रों का जहां से रजिस्ट्रेशन है वो वहीं से परीक्षा देंगे। बाकि जो भी बात है उसको दोनों कुलपति बैठ कर तय करेंगे। उसके बाद ही कुछ पता चल सकेगा। छात्र संघ चुनाव व आंदोलन के कारण बीएनएयू का सेशन लेट हुआ है। डॉ फारुक अली, प्रोवीसी, बीएनएमयू

Loading...