पूर्णिया: मार्च महीने में ही पछुआ हवा से पारा पहुंचा 31.2 डिग्री के पार

 नीरज झा/पूर्णिया
पूर्णिया/बिहार:  इस साल गर्मी मार्च में ही रिकॉर्ड तोड़ सकती है। इस बार तपिश ज्यादा है। साथ ही पारा भी तेजी से बढ़ रहा है। इसी के चलते लोगों को अभी से ही दोपहर में गर्मी बेचैनी का अहसास करा रही है। अधिकतम तापमान 31.2 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। होली के बाद पहली बार सबसे गर्म जगह रहा। न्यूनतम तापमान 17.8 डिग्री सेल्सियस रिकाॅर्ड किया गया। 15 से 17 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से गर्म पछुआ हवा चली। हल्के बादल भी छाए रहे। अगले 24 घंटे में हल्के बादल छाए रहने की संभावना है। हल्की बारिश भी आ सकती है। मौसम में बदलाव के कारण मार्च, अप्रैल व मई में बिजली चमकना, ओलावृष्टि भी हो सकती है।
आसमान में दो दिनों तक बादल छाए रहने की संभावना
सुबह 10 बजे ही पारा 30 डिग्री के पार पहुंचा
मार्च के अंतिम सप्ताह के बाद पारा 35 डिग्री के पार पहुंचता था। लेकिन जलवायु परिवर्तन व हरियाली की कमी के चलते मार्च की शुरुआत में ही रफ्तार से पारा बढ़ रहा है। मार्च में 30 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने वाला पारा 33 डिग्री के पार पहुंच चुका है। तपिश का आलम यह है कि सुबह 10 बजे ही पारा 30 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच जाता है। यह सिलसिला दोपहर 4 बजे तक चलता है। शाम 5 बजे के बाद सूरज नरम होने के बाद गर्मी से थोड़ी राहत मिल रही है।
सामान्य से 6.7 डिग्री अधिक
पिछले दिन की तुलना में अधिकतम तापमान में बढ़त के साथ 32.8 डिग्री दर्ज किया गया। यह सामान्य से 6.7 डिग्री अधिक रहा। जबकि न्यूनतम तापमान 17.8 डिग्री दर्ज किया गया। सुबह की आर्द्रता 55 फीसदी रही। यह सामान्य से 1 फीसदी अधिक रही। शाम की आर्द्रता 22 फीसदी रही। यह सामान्य से 5 फीसदी कम रही।
मार्च में 40 तो अप्रैल-मई में 43 पहुंचेगा पारा
मौसम विभाग की चेतावनी मानें ताे इस बार मार्च में ही पारा 40 डिग्री को पार कर जाएगा। अप्रैल व मई तापमान 43 डिग्री तक पहुंचने का अनुमान है।
धूप छाव रहेगा जारी
मौसम विभाग की मानें तो आसमान में बादल छाये रह सकते है। बंगाल की खाड़ी से ऊपरी हवा का चक्रवात और हिमाचल की तराई में पश्चिमी विक्षोभ के कारण हल्की बारिश की संभावना है। तापमान में गिरावट आ सकती है। तेज हवा के झोकों के साथ बारिश के छिंटे भी आने की संभावना है। यह दो दिन तक प्रभावी रह सकता है।
Loading...