पूर्णिया:स्वच्छ भारत समर इन्टर्नशिप के तहत कृषि छात्रों ने की पोपुरिया गाँव के सड़कों की सफाई

प्रियांशु आनंद/पूर्णिया
पूर्णिया/बिहार:स्वच्छ भारत अभियान  की सफलता हेतूु स्वच्छ भारत समर इन्टर्नशिपअन्तर्गत कृषि महाविद्यालय के छात्रों के समूह द्वारा पोपुरिया गाँव के सड़कों की गई सफाई  साथ ही साथ किये गए कार्यों द्वारा ग्रामीण नागरिकों के व्यवहार परिवर्तन का भी किया गया मूल्याकंन।

दिनांक 16 जुलाई 2018 को शाम 4से 6 बजे स्वच्छ भारत समर इन्टर्नशिप अन्तर्गत महाविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना ईकाइ के प्रभारी डा॰ पंकज कुमार यादव के नेतृत्व में छा़़़त्रों के दल का समूँहे पोपुरिया गाँव पहुँचा।  छात्रों द्वारा स्वच्छता के प्रति पोपुरिया गाँव के लोगों को जागरूक करने के लिए वृहद स्वच्छता अभियान चला कर पोपुरिया गाँव एवं संथाल टोला की सभी सड़कों की सफाई की गयी।

इस कार्यक्रम में ग्रामीण नागरिकों में इन्दल रिषि,सुनील रिषि, पन्ना लाल उराँव, काला देवी, जूगनू उराँव, सुरेन्द्र उराँव, कुदय संथाल, बबलू, संथाल, टुल्लू मुण्डा, दारा संथाल आदि ने स्वच्छ भारत समर इन्टर्नशिप अन्तर्गत महाविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना ईकाइ के स्वयं सेवक छात्रों के साथ सड़क की सफाई कर स्वच्छता अभियान में सक्रिय सहयोग प्रदान किया।

इस अवसर पर पोपुरिया गाँव के समीप स्थित आर के पब्लिक स्कूल के छात्र-छा़त्रओं को भी स्वच्छता की विस्तृत जानकारी प्रदान की गई।01 मई 2018 से 31जुलाई 2018 तक चलने वाले स्वच्छ भारत समर इन्टर्नशिप कार्यक्रम 100 घंटे स्वच्छता कार्य हेतु कृषि महाविद्यालय के स्नातक प्रथम वर्ष के छात्र प्रतिदिन  पोपुरिया गाँव के ग्रामीण नागरिकों को स्वच्छता के विभिन्न पहलुओं के बारे में जानकारी प्रदान कर जागरुक करने का कार्य कर रहे है।

स्वच्छ भारत समर इन्टर्नशिप हेतु चयनित गाँव में मुख्य रुप से नामित प्रथम समूह के सदस्य स्नातक कृषि प्रथम वर्ष के राष्ट्रीय सेवा योजना स्वयं सेवक छात्र क्रमशः सुमित कुमार अग्रवाल, विवेक कुमार, रीशू कुमार, शिव शंकर, रोशन, कुमार, सुधीर कुमार, विनोद कुमार, सोनू कुमार, प्रवीण कुमार एवं शशी भूषण इत्यादि लगातार स्वछता का कार्य सक्रिय रुप से करके ग्रामीणों का सहयोग प्राप्त कर रहे हैं, साथ ही साथ स्वच्छ भारत समर इन्टर्नशिप अन्तर्गत किये गए कार्यों द्वारा ग्रामीण नागरिकों के व्यवहार परिवर्तन का भी मूल्याकंन कर रहे हैं।

इस अवसर पर महाविद्यालय के अन्य वैज्ञानिक डा॰ पारस नाथ, डा॰ पंकज कुमार यादव एवं  डा॰ अनिल कुमार द्वारा सक्रिय भूमिका का निर्वहन किया गया।

Loading...