पूर्णिया: छात्रों और दुकानदारों के बीच जमकर हुई मारपीट, कई घायल

नीरज झा/पूर्णिया

पूर्णिया/बिहार:  लाइन बाजार बिहार टॉकीज रोड में शुक्रवार  दोपहर को दुकानदार और छात्रों के बीच जमकर मारपीट हुई। कुछ देर के लिए मरीज और उनके परिजन भी असमंजस की स्थिति में पाए गए आखिर हुआ क्या? घटना के संबंध  में छात्र नेता राजेश कुमार यादव ने बताया  की छात्र प्रभाकर कुमार ,नीरज कुमार झा ,विनोद झा और रवि गोस्वामी अररिया शादी में जा रहा था।  सभी छात्र अररिया जाने के लिए बिहार टाकीज मोड़ पर ऑटो का इंतजार कर रहा था कि कुछ फल दुकानदार सड़क किनारे दूकान लगा कर झाड़ू मारने लगा जिससे पूरा गंदगी फैलने लगा।

इसके बाद छात्रों ने फल दुकानदार को कहा कि वे पानी मारकर झाड़ू मारे ताकि लोगो को गन्दा नहीं पडे़ । इतना सुनते ही फल दुकानदार छात्रों को कहने लगे कि दुकान लगाने का रुपया देते हैं ।कोई क्यो बोलेगा इसके बाद दोनों पक्षो में विवाद बढ़ने लगा। इतना देखते ही आस पास के एक दर्जन दुकानदार पहुंचे और छात्रों के साथ मारपीट करना शुरू कर दिया।  मारपीट में छात्र घायल हो गए जिसका इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है।

हालांकि इस मारपीट में छात्र प्रभाकर कुमार बुरी तरह से जख्मी हो गए हैं। उनके सिर में चोट लगने के कारण छात्र की स्थिति गम्भीर बनी हुई है।  घटना के बाद छात्र उग्र हो गए और पूर्णिया सिटी और गुलाबबाग मुख्य सड़क मार्ग को जाम कर दिया।  घटना की सूचना मिलते ही केहाट थाना की पुलिस एवं सदर एसडीपीओ राजकुमार साह मौके पर पहुँच कर जाम को हटाया ।  इस सबंध मे छात्र नेता राजेश यादव ने कहा एसडीपीओ के द्वारा आश्वासन न दिया गया है कि 24 घण्टे के अंदर सड़क किनारे अवैध रूप से लगाए गए दुकान को नगर निगम के सहयोग से हटाया जाएगा ।

राजेश यादव ने बताया कि यदि 24 घन्टे के अंदर सड़क किनारे दुकानदार को नहीं हटाया गया तो उग्र आंदोलन किया जाएगा।  उन्होंने कहा कि छात्रों के द्वारा एक दर्जन से अधिक अज्ञात दुकानदार जो मारपीट की घटना में शामिल था।  उनके खिलाफ केहाट थाना में मामला दर्ज करवाया गया है।  छात्रों ने सवाल भी उठाया कि जब नगर निगम के द्वारा सड़क किनारे जाम को हटा दिया जाता है तो कैसे दुकाने सज जाती है।

छात्रों ने ट्रैफिक पुलिस की मिली भगत  मामले का भी मुद्दा उठाया । छात्रों ने बताया कि जब प्रतिदिन डयूटी पर ट्रैफिक के जवान तैनात रहता है तो उनके आंख के सामने आखिर कैसे दुकानदार सड़क किनारे अपनी दुकान सजा रहे हैं।  बड़ी सवाल यह भी है कि शहर को जाम से मुक्ति के लिए सिक्स लेन सडक बनाया गया है लेकिन वहां सडक पर ही होता है पार्किंग और सजती है दूकानें। अतिक्रमण मुक्त करने हेतु कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है अब तक।

Loading...