पूर्णिया :हर्षोउल्लास के साथ मनाया गया रक्षाबंधन का त्यौहार

प्रियांशु आनंद/पूर्णिया
पूर्णिया/बिहार : भाई-बहन के अटूट प्रेम के पवित्र त्योहार को लेकर शहर का माहौल में सुबह से ही चहलकदमी बनी रही । सुबह की शुरुआत से ही कहीं भाईयों ने घर में बहन से राखी बँधवाई , तो कई भाई अपने बहन के दुर होने के कारण उनके घर के लिए निकल पङे । बाजार में मिठाई की दुकानें सजी हुई थी , जहाँ बहनों ने भाई के लिए जमकर मिठाई की खरीदारी की ।

बहनों ने रोली , कुमकुम , अक्षत ,और राखी से सजाई थाली के साथ भाई को तिलक किया , आरती उतारी और कलाई पर राखी बाँधते हुए भाईयों को मिठाई खिलाकर मुँह मीठा करवाया । भाईयों ने बहन से राखी बँधवाकर उनकी रक्षा का संकल्प लिया । रक्षाबंधन को लेकर बच्चों मेें उत्साह का माहौल देखने को मिला , और सारे शहर ने उत्साह के रक्षाबंधन के पवित्र त्योहार को मनाया ।

…..रक्षाबंधन के पवित्र त्योहार के पीछे पौराणिक महत्व
सदियों पुरानी प्रचलन श्रावण मास के पूर्णिमा में मनाये जानेवाला रक्षाबंधन के इस त्योहार के पीछे भाई-बहन के प्रेम के कई अटूट किस्सें छुपें हैं । कहा जाता हैं राजा बलि ने जब 100 यज्ञ पूर्ण कर स्वर्ग छिनने का प्रयास किया तो देवराज इंद्र ने भगवान विष्णु से प्रार्थना की । इसके बाद भगवान विष्णु ने वामन रुप धारण कर राजा बलि के पास भिक्षा माँगने पहुँचे । भगवान ने तीन पग में आकाश , धरती , पाताल नाप लिया और राजा बलि को रसातल में भेज दिया ।

तब राजा बलि ने अपनी भक्ति से भगवान को रात दिन अपने सामनें रहने का वचन ले लिया । तब जाकर माता लक्ष्मी ने राजा बलि को राखी बाँधकर अपना भाई बना लिया और भेंट में अपने पति को साथ ले आई , और यह श्रावन मास का पूर्णिमा दिन था।

(Visited 14 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *