पूर्णिया:कृषि महाविद्यालय में अगस्त क्रान्ति दिवस एवं बिहार पृथ्वी दिवस का आयोजन

प्रियांशु आनंद/पूर्णिया

पूर्णिया/बिहार:भोला पासवान शास्त्रीकृषि महाविद्यालय पूर्णिया की राष्ट्रीय सेवा योजना ईकाई केपदाधिकारी डाॅ॰ पंकज कुमार यादव द्वारा अगस्त क्रान्ति दिवस एवंबिहार पृथ्वी दिवस का आयोजन किया गया इस अवसर परस्वतंत्रता संग्राम में सम्मिलित सभी राजनेताओं एवं शहिदों को नमनकिया गया इस कार्यक्रम की अध्यक्षता सह अधिष्ठाता-सह-प्राचार्यडाॅ0 राजेश कुमार ने किया।

 अगस्त क्रान्ति दिवस एवं बिहार पृथ्वीदिवस के अवसर पर प्राचार्य डाॅ0 राजेश कुमार ने अपने भाषण मेंस्वतंत्र भारत के पूर्व विभिन्न आंदोलनों पर चर्चा करते हुए छात्र/छात्राओं को यह बताया की आज का दिन भारत के ईतिहास मेंबहुत ही महत्वपूर्ण स्थान रखता है, क्योंकि । द्वितीय विश्वयुद्ध मेंसमर्थन देने के बावजुद भी जब अंग्रेजी सरकार भारत को स्वतन्त्रकरने के लिए तैयार नहीं हुई तो राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने आज केही दिन वर्ष 1942 में भारत छोड़ों आन्दोलन के रूप में आजादी कीअंतिम लड़ाई की घोषणा कर दी थी जिसे पूरा देश अगस्त क्रान्ति केरूप में जानता है इस आन्दोलन के बाद ब्रिटिश सरकार दहसत मेंआ गयी इस लिए पूरे देश में आज का दिन अगस्त क्रान्ति दिवस केरूप में मनाया जाता है।

 इस आन्दोलन की शुरूआत मुम्बई से जिसपार्क में शुरू हुयी थी उसे अगस्त क्रान्ति पार्क के नाम से जाना जाताहैअंग्रेजों को भारत से भगाने के लिए 4 जुलाई 1942 को भारतीयराष्ट्रीय कांग्रेस ने एक प्रस्ताव पारित किया जिससे कहा गया कि यदिअंग्रेज भारत को आजादी नहीं देते है तो उनके खिलाफ व्यापक स्तरपर नागरिक अवज्ञा आन्दोलन चलाया जाय।

इस आन्दोलन को लागुकरने के पूर्व भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेताओं ने काफी मतभेद था,इसके बाद भी आम सहमती बनाकर सभी लोगों ने गांधी जी केनिर्णय का भरपुर समर्थन किया इस कदम के बाद सभी नेताओं कोगिरफ्तार कर लिया, लेकिन अरूणा आसफ अली गिरफतारी सेबचकर 9 अगस्त 1942 को मुम्बई के ग्वालियर टैंक मैदान में तिरंगाफहराकर इस आन्दोलन का शंखनाद किया।

 बिहार पृथ्वी दिवस परचर्चा करते हुए डा॰ कुमार ने छात्र/छात्राओं को निर्देशित किया आपसभी लोग प्रत्येक वर्ष कम से कम एक वृक्ष का रोपड़ करें जिससेपर्यावरण साफ सूथरा एवं स्वच्छ रह सके।यदि पर्यावरण व्यवस्थितनहीं रहा तो आने वाले समय में विभिन्न प्रकार की परेशानियों कासामना कराना परेगा।

 जिससे पृथ्वी पर जीवन अस्त व्यवस्थ होजायेगा, इसलिए हमसभी को इस बात का ध्यान रखना है कि जल हैतो कल है जल ही जीवन है क्योकि किसी भी पौधे का प्रथम भोज्यपदार्थ जल ही है और यदि वृक्षा रोपन कर के पृथ्वी को प्रदुषित होनेसे नहीं बचाया गया तो आने वाले समय में इस पृथ्वी पर मानवजीवन को संकटों का सामना करना पड़ेगा।

इस अवसर पर महाविद्यालय के अन्य वैज्ञानिक  डा॰पारस नाथ, डा॰ जे॰ एन॰ श्रीवास्तव, डा॰ जनार्दन प्रसाद, डा॰पंकज कुमार यादव, डा॰ अनिल कुमार, डा॰ रणवीर कुमार, श्री एस॰पी॰ सिन्हा, डा॰ रवि केसरी, डाॅ0 तपन गोराई,  डा॰ रूबी साहा,श्रीमति अनुपम कुमारी, श्री जय प्रकाश प्रसाद, डा॰ एस॰ बी॰ साह,डा0 एन0 के0 शर्मा, श्री माचा उदय कुमार तथा कर्मचारियों में श्रीउमेश कुमार एवं गिरीश कुमार दास आदि ने अपना सहयोग प्रदानकिया।

इस कार्यक्रम में स्नातक कृषि के छात्र/छात्राओं में अभिषेक,अभिनव, मृणाल, विजय, गौरव, संतोष, शिवराज, चंद्रभानू, सुमितकुमार अग्रवाल, विवेक कुमार, रीषू कुमार, शिव शंकर, रोशन, कुमार,सुधीर कुमार, राजकुमार, राहुल, अंकित, नितेश, शशि रंजन, विनोदकुमार, सोनू कुमार, प्रवीण कुमार एवं शशी भूषण एवं छात्राओं मेंनीषु प्रिया, पुष्पम, निषा भारती, स्मृति, सोनी, निषांत अंजुम, षोभाकुमारी, स्मृति राज, जय श्रीराज, संजीता कुमारी, मंजुूषा कुमारी,कुमारी ज्योत्सना आदि ने भाग लिया।इस कार्यक्रम  का सफलतापूर्वक मंच संचालन तथा धन्यवाद ज्ञापन डा॰ पंकज कुमार यादवद्वारा किया गया।

Loading...