पूर्णिया: मुख्यमंत्री ग्राम सड़क निर्माण में घटिया सामान का इस्तेमाल, भड़के ग्रामीण

प्रियांशु आनंद/पूर्णिया

अमौर-बैसा/बिहार:  बैसा प्रखंड अंतर्गत सिंघिया से मीरपुर मुख्यमंत्री ग्राम संपर्क योजना के तहत सड़क निर्माण में गुणवत्ता मानकों की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। संवेदक द्वारा बेडमिसाइल में लोकल बालू मिलाकर घटिया स्तर का सड़क का निर्माण किया जा रहा है। जिससे क्षेत्र के ग्रामीणों में आक्रोश का माहौल है। स्थानीय ग्रामीणों के अनुसार इस मार्ग के निर्माण के लिए संवेदक द्वारा दो मोहनी पुल के समीप बेडमिसाइली का डैम बनाया गया है। इसी स्थान पर संवेदक ने लोकल बालू का भी डैम बना रखा है और बेडमिसाइल में पचास फीसदी लोकल बालू मिलाकर सड़क का निर्माण किया जा रहा है। जिससे सड़क निर्माण की गुणवत्ता पर प्रश्नचिन्ह लग गया है। क्षेत्रीय ग्रामीण मो कलाम, मौलाना तहमीद, मो अरसद, बबलू, मो तनवीर, मौलाना नुरूज्जमा समेत सैकड़ों ग्रामीणों ने घटिया सड़क निर्माण पर रोक लगाने तथा गुणवत्तापूर्ण निर्माण की दिशा में साकारात्मक पहल किए जाने का अनुरोध जिला प्रशासन से किया है।

सड़क निर्माण में गुणवत्ता पर कोई समझौता नहीं
इस सड़क निर्माण का शिलान्यास तत्कालीन बिहार सरकार के उत्पाद एवं निबंधन मंत्री सह विधायक अब्दुल जलील मस्तान द्वारा 18 दिसंबर 2016 को विधिवत किया गया था और संवेदक द्वारा निर्माण कार्य प्रारंभ किया गया था। योजना की अनुमानित राशि 4 चार करोड़ 46 हजार रुपए है। जिसमें मिट्टी वर्क के लिए 41 लाख 79 हजार 8 सौ रुपए है और जेसीबी के लिए लगभग 82 लाख रुपए तथा निर्माण कार्य पूर्ण की अंतिम तिथि 17 दिसंबर 2017 निर्धारित की गई थी। शिलान्यास समारोह में मंत्री मस्तान ने स्पष्ट रूप से कहा था कि सड़क निर्माण में भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं की जाएगी और गुणवत्तापूर्ण निर्माण पर कोई समझौता नहीं होगा। इसके बावजूद सड़क निर्माण में बेरोकटोक भ्रष्टाचार जारी है और गुणवत्ता मानकों की धज्जियां उड़ाई जा रही है।

जांच के बाद होगी कार्रवाई
पूर्णिया के बायसी प्रखंड के सहायक अभियंता ग्रामीण कार्य विभाग कार्य प्रमंडल गिरिजानंद सिंह ने कहा ग्रामीणों की शिकायतों पर त्वरित जांच की जाएगी और निर्धारित मापदडों के अनुसार सड़क निर्माण नहीं होने की स्थिति में जांचोपरांत संबंधित संवेदक पर विधिसम्मत कार्रवाई की जाएगी।

Loading...