पूर्णिया से भी बच्चों ने भेजे पीएम को सवाल, 16 फरवरी को ‘मन की बात’

पूर्णिया से भी बच्चों ने भेजे पीएम को सवाल, 16 फरवरी को ‘मन की बात’

नीरज झा/पूर्णिया
पूर्णिया/बिहार:  प्रधानमंत्री ने बच्चों से 16 फरवरी के लिए परीक्षा संबंधित सवाल मंगाये थे। जिसमें जिले के.नगर, बनमनखी व रुपौली के छात्र व छात्रा ने सवाल भेजे है। सवाल 16 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के छात्रों के साथ संवाद कार्यक्रम से पूर्व उनसे पूछने के लिए सवालों को विद्यालय प्रधान के द्वारा जिला शिक्षा पदाधिकारी कार्यालय को भेजा है। उच्च विद्यालय बेगमपुर, के.नगर के कक्षा नौ के छात्र मलय कुमार, उच्च विद्यालय खूंट बनमनखी के मनोज कुमार व उच्च विद्यालय भौवा ढ़ियोरी, रुपौली की कक्षा नौ की छात्रा जुली कुमारी की ओर से प्रधानमंत्री से तीन सवाल पूछे गए हैं।
ये हैं तीन सवाल : पहला सवाल है कि 10 वीं व 12 वीं के पाठ्यक्रम को अपग्रेड करके इसे रोजगार परक बनाकर क्या परीक्षा के तनाव को कम नहीं किया जा सकता। दूसरा सवाल है छात्र-छात्रा अपने समूह में परीक्षा की तैयारी किस विधि से करे, क्या समूह तैयारी की विधि मानसिक तनाव कम करने में कारगार होगा और तीसरा सवाल सबसे अहम है,यह सवाल बच्चों के तनाव को लेकर है। जिसमें परीक्षा पुरी तरह से कदाचार मुक्त होने से पढ़ाई पर ध्यान और परीक्षा का तनाव कम किया जा सकता है। हालांकि इन बच्चों के सवाल प्रधानमंत्री द्वारा सलेक्ट किए जाएंगे या नहीं यह तो भविष्य की बात है, लेकिन बच्चे प्रधानमंत्री से सवाल करने को लेकर काफी उत्सुक और प्रसन्नचित हैं।
कल जिले के सभी स्कूलों में बच्चे सुनेंगे प्रधानमंत्री का बच्चों के साथ संवाद कार्यक्रम, मिल सकता है जवाब
16 फरवरी को होगा प्रधानमंत्री का संवाद कार्यक्रम
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लिखित पुस्तक एग्जाम वारियर्स पर 16 फरवरी को खुद प्रधानमंत्री छात्रों के साथ संवाद करेंगे। संवाद कार्यक्रम के लिए शिक्षा विभाग की ओर से जिले के सभी स्कूलों में व्यवस्था करायी जा रही है। इस बावत जिला शिक्षा पदाधिकारी मिथिलेश प्रसाद ने सभी बीईओ, बीआरपी एवं संकुल समन्वयक एवं प्रधानाध्यापकों को पत्र जारी कर वर्ग 6 से ऊपर की सभी कक्षा के छात्र 11 बजे से लेकर 12 बजे तक किए जाने वाले वार्ता के संबंध में निर्देश दिए हैं। डीईओ के द्वारा जारी पत्र के अनुसार सभी मध्य एवं माध्यमिक विद्यालयों में रेडियो, टेलीविजन, जेनरेटर आदि की व्यवस्था कराने को कहा गया है ताकि प्रधानमंत्री के संवाद कार्यक्रम से बच्चे लाभान्वित हो सकें।
मेल पर मांगे गए थे सवाल
इसके पूर्व डीईओ ने सभी प्रधानाध्यापकों से प्रधानमंत्री से पूछे जाने वाले प्रश्नों को भी अधिकतम 100 शब्दों में शिक्षा विभाग के मेल पर भेजने का निर्देश दिया था।
Loading...