नीतीश बाबू आपने तो सुपौली वालों के साथ धोखा किया! दिया नहीं बर्बाद किया

नीतीश बाबू आपने तो सुपौली वालों के साथ धोखा किया! दिया नहीं बर्बाद किया

नीरज झा/पूर्णिया
पूर्णिया/बिहार: भवानीपुर प्रखंड के सुपौली पंचायत को जिला प्रशासन द्वारा रात दिन जद्दोजहद कर चमकाया गया था। एक वर्ष पूर्व बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार खुद पहुंचकर सुपौली पंचायत को निर्मल ग्राम पंचायत के रुप में डेवलप करने की घोषणा की थी। करोड़ों की लागत से जलमीनार का निर्माण कराया गया था। जिसका उद्घाटन खुद मुख्यमंत्री ने किया था। उस दौरान मुख्यमंत्री ने मंच से ही घोषणा की थी कि सुपौली पंचायत वासी अब खुले में शौच को नहीं जाएंगे। सभी के घर आंगन में शौचालय का निर्माण करा दिया जाएगा।

इतना ही नहीं स्वच्छ पानी की भी व्यवस्था कर सबों के घर में नल भी लगवाए गए। बता दें कि मुख्यमंत्री के आगमन को लेकर प्रखंड से लेकर जिला स्तर के आलाधिकारी रात दिन सुपौली पंचायत में कैंप कर हर घर नल जल, शौचालय और जल निकासी के लिए पक्की नाला के साथ ही कच्ची सड़क को पक्की सड़क में बदलने का काम कर रहे थे। नाला बना मगर नाले की पानी की निकासी कहां होगी इसकी व्यवस्था नहीं होने के कारण लोग नाले को मिट्टी से भर दिए।

सीएम साहब आए तो पानी आया, जाते वक्त पानी अपने साथ ले गए

घर घर स्वच्छ जल के लिए नल भी लगा मगर कुछ समय में ही अधिकांश नल से जल निकलना बंद हो गया। लोगों को उम्मीद जगी थी कि उनके दिन बहुरेंने लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। मुख्यमंत्री के जाते ही कोई पदाधिकारी सुपौली पंचायत में किए गए उस वक्त के कार्य को झांकने तक नहीं आए। जिस कारण महज साल भर में ही लोग खुले में शौच को जाने को विवश हो गए। नल की टूटी से पानी भी गायब हो गए। शौचालय जीर्ण शीर्ण अवस्था में पड़ा हुआ है।

सुपौली पंचायत का वार्ड नंबर 6 मुख्यमंत्री के सभा स्थल से दूर होने के कारण शौचालय, हर घर नल से जल आदि व्यवस्थाओं से उस वक्त वंचित रह गया था। जब वार्ड नंबर 6 के वासी  कार्यस्थल पर मौजूद पदाधिकारी से अपने वार्ड में भी सरकारी सुविधा मुहैया कराने की मांग रखी तो पदाधिकारी ने लोगों को भरोसा दिलाया था कि मुख्यमंत्री के जाने के बाद उसके वार्ड में भी अन्य वार्डों की तरह सभी सरकारी सुविधा मुहैया करा दी जाएगी। वर्षों बीत जाने के बाद भी वार्ड नंबर 6 अपने हाल पर आंसू बहा रहा है। आज भी अमूमन सभी घर के महिला पुरुष अपनी लज्जा त्याग कर खुले में शौच करने को मजबूर हैं। सबसे बड़ी बात यह कि मुख्यमंत्री की घोषणा के एक वर्ष बाद भी वार्ड नंबर 6 के कई घर शौचालय से विहीन हैं। वार्ड नंबर 6 निवासी कंचन देवी, मटुकी राम, दौलत राम, जितेंद्र राम समेत कई अन्य का कहना है कि इस मोहल्ले में कई घरों को शौचालय नसीब नहीं हुआ है।

Loading...